अरब मुर्दाबाद के नारे से अपनों पर ही भड़के इसराइली विदेश मंत्री - BBC Hindi

उत्तर कोरिया में खाने-पीने की चीज़ों को लेकर 'चिंताजनक' हालात: किम जोंग उन

16-06-2021 09:50:00

उत्तर कोरिया में खाने-पीने की चीज़ों को लेकर 'चिंताजनक' हालात: किम जोंग उन

इसराइल विदेश मंत्री येर लेपिड ने अपने ही लोगों से नाराज़गी जताई है. मंगलवार को दक्षिणपंथी यहूदियों ने यरुशलम मार्च निकाला था और इसी मार्च में अरब मुर्दाबाद के नारे लगाए गए थे.

सारांशभारत ने मंगलवार को औपचारिक रूप से स्वीकार किया कि AY.1 कोरोना वायरस का एक वेरिएंट मौजूद है जो कि डेल्टा वेरिएंट के क़रीब हैदिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि सभी आतंकवादी अपराधी हैं लेकिन सभी अपराधी आतंकवादी नहीं हैंसुप्रीम कोर्ट ने इतालवी मरीन्स के ख़िलाफ़ जाँच बंद की. बीजेपी सरकार ने भी इससे सहमति जताई

भारत के विकास में कोरोना ने लगाया ब्रेक: GDP ग्रोथ का अनुमान घटाने पर IMF चीफ इकोनॉमिस्ट ने NDTV से कहा.. पुराने मोबाइल फोन और लैपटॉप से बने हैं Tokyo Olympics 2020 में मिलने वाले मेडल पेगासस जासूसी: ममता बनर्जी ने मोदी सरकार को दी चुनौती

कांग्रेस प्रमुख सोनिया गाँधी ने कहा कि गलवान को लेकर अब भी स्थित स्पष्ट नहीं हैदिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को तीन स्टूडेंट एक्टिविस्ट को ज़मानत दे दी, इन्हें यूएपीए के तहत 2020 में गिरफ़्तार किया गया थालाइव रिपोर्टिंगसंबंधित समाचारलाइव रिपोर्टिंगरिपोर्टर- रजनीश कुमार और आदर्श राठौर

time_stated_ukपोस्ट किया गया 6:396:39अरब मुर्दाबाद के नारे से अपनों पर ही भड़के इसराइली विदेश मंत्रीGetty Imagesइसराइली विदेश मंत्री येर लेपिडImage caption: इसराइली विदेश मंत्री येर लेपिडइसराइल के हज़ारों दक्षिणपंथी राष्ट्रवादियों ने पूर्वी यरुशलम में अपना राष्ट्रध्वज लेकर मार्च किया. इस मार्च से एक बार फिर इसराइल और फ़लस्तीनियों में तनाव बढ़ गया है. इसराइल की में नई गठबंधन सरकार बने दो दिन ही हुए हैं और नई चुनौती सामने आ गई है. headtopics.com

पिछले महीने पूर्वी यरुशलम से ही तनाव की शुरुआत हुई थी और 11 दिनों तक चरमपंथी इस्लामिक संगठन हमास और इसराइली सुरक्षा बलों के बीच हिंसक संघर्ष चला था. इसमें क़रीब 250 लोगों की जान गई थी.Getty ImagesCopyright: Getty Imagesमंगलवार को इसराइल की पुलिस इस मार्च को लेकर काफ़ी सतर्क थी. पुलिस ने यरुशलम के मशहूर दमिश्ट गेट वाले इलाक़े को पहले ही फ़लस्तीनियों से ख़ाली करवा दिया था. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार मार्च में शामिल ज़्यादातर लोग दक्षिणपंथी यहूदी थे. ये अपने हाथों में इसराइल का राष्ट्रध्वज लेकर आगे बढ़ रहे थे.

1967 के युद्ध में इसराइल ने पूर्वी यरुशलम को अपने नियंत्रण में ले लिया था और तब से उसके पास ही है. हालांकि इसे अभी अंतरराष्ट्रीय मान्यता नहीं मिली है कि इसराइल का पूर्वी यरुशलम है. फ़लस्तीनियों की मांग है कि भविष्य में फ़लस्तीन एक स्वतंत्र और संप्रभु राष्ट्र बनेगा तो पूर्वी यरुशलम उसकी राजधानी होगी. इसमें वेस्ट बैंक और ग़ज़ा को भी शामिल करने की बात है.

ReutersCopyright: Reutersगज़ा में हमास का शासन है और उसने यरुशलम में मार्च को लेकर इसराइल की नेफ़्टाली बेनेट सरकार को चेतावनी दी है. हमास ने कहा है कि फिर से अशांति हो पैदा हो सकती है. इस मार्च में अरब मुर्दाबाद के नारे भी लगाए गए.बेनेट नेफ़्टाली की सरकार में येर लेपिड विदेश मंत्री हैं और इस सरकार में सबसे बड़ी पार्टी भी इन्हीं की है. लेपिड को नेफ़्टाली के दो साल के कार्यकाल के बाद पीएम बनना है. उन्होंने इस मार्च में अरब मुर्दाबाद के नारे लगाए जाने की निंदा की है.

येर लेपिड ने अरब मुर्दाबाद के नारे पर नाराज़गी जताते हुए अपने ट्वीट में कहा, ''यहूदी ऐसे नहीं होते. एक इसराइली के लिए भी यह ठीक नहीं है. निश्चित तौर पर हमारा राष्ट्र ध्वज भी इसकी अनुमति नहीं देता है.'' और पढो: BBC News Hindi »

इन राज्यों में राहत की बारिश बनी भारी आफत? देखें तस्वीरें

बारिश ने पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों के लोगों के सामने लिए बड़ी मुश्किलें लाकर खड़ी कर दी. एक तरफ जहां पहाड़ों पर लोग भूस्खलन से जान गंवा रहे हैं तो दूसरी तरफ मैदानी इलाकों में बाढ़ ने कहर मचा रखा है. दरभंगा में बाढ़ के पानी से कुशेश्वरस्थान के लोग परेशान तो मध्य प्रदेश के कई जिले भी बाढ़ से त्रस्त हैं. सबसे बुरी हालात में महाराष्ट्र है जहां बारिश और बाढ़ से अबतक तकरीबन 112 लोग जान गंवा चुके हैं. इन सबके अलावा कर्नाटक से लेकर तेलंगाना तक में मौसम ने अपना कहर बरपा रखा है. देखें वीडियो.

Care about your own country Stupid peoples दूसरों के फटे में टांग अड़ा रहे ..... INDIA CHAHTA HAI *KOO ON* 'TWITTER OFF' Let twitter die! boycotttwitter विचार साझा ..इस कदर .. परख में शामिल ..हर एक खबर☄️ विपक्ष में भी पूछे सवाल सरकार में भी पूछे सवाल अरे अनपढ़ों नही आता चलाना तो निकल लो झोला उठा के नए Israeli PM 'Naftali Bennett' के आने से Pak Media में दहशत का माहौल .. ये तो MODI से भी ज्यादा खतरनाक है ... ये तो नेतन्याहू से भी ज्यादा कट्टर यहूदी हैं अब पलिस्तीनियंस और हमारे लिए और ज्यादा मुसीबत बढ़ गयी है.

Nice...👍🏻👍🏻 सरकार सब कुछ कंट्रोल करना चाहती है अगर कस्टमर के हित का विपरीत ट्विटर वाले गए तो बायोकटविटर सबको अब परमाणु बम खिलाओ। sara khana to ye mota bhaisa kha jata hai 😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂

सऊदी अरब ने पाकिस्तान को दिया झटका, रूस बना वजह?सऊदी अरब ने पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह में 10 अरब डॉलर की तेल रिफाइनरी नहीं बनाने का फैसला किया है. ग्वादर बंदरगाह के बजाय, सऊदी अरब कराची में तेल रिफाइनरी बनाने पर विचार कर रहा है. ग्वादर बंदरगाह पाकिस्तान में चीन की बेल्ट ऐंड रोड इनिशिएटिव का सबसे अहम हिस्सा है. हालांकि, सऊदी अरब के ग्वादर से निवेश से कदम पीछे खींचने से ये बात साबित हो गई है कि ग्वादर निवेश के हब के तौर पर अपनी अहमियत खोता जा रहा है.

2020-21 में चीन रहा भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार, दोनों देशों के बीच 77.7 अरब डॉलर का कारोबारOne year of Galwan Clash: गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुए खूनी संघर्ष के एक साल बाद भी चीन भारत का सबसे बड़ा कारोबारी साझेदार बना हुआ है। हालांकि तीन सालों में लगातार ये आंकड़ा नीचे की तरफ या रहा है, बावजूद इसके वित्तीय वर्ष 2020-21 में ये 77.7 अरब डॉलर था, जो कि अमेरिका के साथ होने इसी अवधि में हुए 75.9 अरब डॉलर से काफी कम हे। इस बीच सर्वे बताते हैं कि आप हिन्दुस्तानियों ने गलवान की घटना के बाद चाइनीज चीज़ों का बहिष्कार किया है। भारत में इस्तेमाल होने वाले मेड इन चाइना वस्तुओं की बिक्री 43 फीसदी घटी है।

हज आवेदन रद्द: भारतीय हज समिति ने लिया फैसला, सऊदी अरब ने नहीं दी बाहरी लोगों को यात्रा की अनुमतिहज आवेदन रद्द: भारतीय हज समिति ने लिया फैसला, सऊदी अरब ने नहीं दी बाहरी लोगों को यात्रा की अनुमति Haj2021 India Application SaudiArabia Who are responsible? Think twice..!

मंत्री के पैर रखते ही ढही भ्रष्टाचार की दीवार, VIDEO: चैंबर में गिरने से बचे मंत्री प्रद्युम्न सिंह, लगाई फटकार; निगमायुक्त ने कंपनी पर लगाया 1 लाख रुपए का जुर्मानाऊर्जा मंत्री के पैर रखते ही अमृत योजना के तहत बन रही चेंबर की दीवार ढह गई। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर गिरते-गिरते बचे। घटिया निर्माण की पोल खुलते ही मंत्री तोमर काफी नाराज हुए और अफसरों को फटकार लगाई। तत्काल जांच के आदेश भी दे डाले। इस घटना के बाद शहर में अमृत योजना का काम कर रही कंपनी मैसर्स विष्णु प्रकाश पंगुलिया पर पहली बार बड़ी और कड़ी कार्रवाई हुई है। | पैर रखते ही चेंबर की दीवार ढह गई, गिरने से बचे ऊर्जा मंत्री, लगाई फटकार, निगमायुक्त ने चेंबर बना रही कंपनी पर लगाया एक लाख रुपए का जुर्माना

सऊदी अरब ने पाकिस्तान को दिया झटका, रूस बना वजह?सऊदी अरब ने पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह में 10 अरब डॉलर की तेल रिफाइनरी नहीं बनाने का फैसला किया है. ग्वादर बंदरगाह के बजाय, सऊदी अरब कराची में तेल रिफाइनरी बनाने पर विचार कर रहा है. ग्वादर बंदरगाह पाकिस्तान में चीन की बेल्ट ऐंड रोड इनिशिएटिव का सबसे अहम हिस्सा है. हालांकि, सऊदी अरब के ग्वादर से निवेश से कदम पीछे खींचने से ये बात साबित हो गई है कि ग्वादर निवेश के हब के तौर पर अपनी अहमियत खोता जा रहा है.

इमरान ख़ान के कश्मीर पर बदलते बयान पर राष्ट्रपति आरिफ़ अल्वी बोले - BBC Hindiपाकिस्तान के राष्ट्रपति डॉक्टर आरिफ़ अल्वी ने कहा है कि भारत प्रशासित कश्मीर पर प्रधानमंत्री इमरान ख़ान के बयानों में बदलाव कोई यू-टर्न नहीं है. संजय सिंह अपने असली बाप का नाम क्यो नही बताता है कि तुम्हारे 2 बाप है जिसमे तुम्हारे असली बाप का नाम सैयद_इकबाली और तुम्हारे दोनों बाप आपसी विवाद में फैजाबाद जेल में भी बंद रहे!इसीलिए ये ब्लैकिया हिंदुओ के आस्था पर चोट पहुँचा रहा है। AamAadmiParty Koi ni fir se do laat kahege shant ho jaenge 🤣😂🇮🇱🇮🇳🙏