Ayodhyajudgment, Ayodhyaverdict, Ayodhyacase, Sunni Waqf Board, Land For Mosque İn Ayodhya, Differences, Exclusive, Lucknow News İn Hindi, Latest Lucknow News İn Hindi, Lucknow Hindi Samachar

Ayodhyajudgment, Ayodhyaverdict

अयोध्या में मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन लेने पर सुन्नी वक्फ बोर्ड में मतभेद

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार अयोध्या में मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन लेने के मुद्दे पर सुन्नी वक्फ बोर्ड में मतभेद

20.11.2019

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार अयोध्या में मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन लेने के मुद्दे पर सुन्नी वक्फ बोर्ड में मतभेद सामने आ गया है। BJP4India myogiadityanath AyodhyaJudgment AyodhyaVerdict AyodhyaCase

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार अयोध्या में मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन लेने के मुद्दे पर सुन्नी वक्फ बोर्ड में मतभेद

फैसले की खामियों से ध्यान हटाने के लिए जमीन देने का प्रावधान : इमरान माबूद

मस्जिद की जमीन के बदले में दूसरी जगह पांच एकड़ जमीन देने की बात रिश्वत जैसी है, ताकि लोगों का ध्यान फैसले की खामियों से हटाया जा सके। उन्होंने कहा कि न्यायालय के फैसले ही नजीर बनते हैं। कोर्ट के इस फैसले को आधार को बनाकर नए विवाद खड़े करने की संभावना है। उन्होंने बोर्ड अध्यक्ष की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए बैठक में शामिल न होने का निर्णय किया है।

बोर्ड के दूसरे सदस्य अब्दुल रज्जाक खान भी मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन न लेने के पक्ष में हैं। उन्होंने बोर्ड अध्यक्ष जुफर फारूकी के रिव्यू दाखिल न करने के निर्णय का भी विरोध किया।

फैसले की खामियों से ध्यान हटाने के लिए जमीन देने का प्रावधान : इमरान माबूद

मस्जिद की जमीन के बदले में दूसरी जगह पांच एकड़ जमीन देने की बात रिश्वत जैसी है, ताकि लोगों का ध्यान फैसले की खामियों से हटाया जा सके। उन्होंने कहा कि न्यायालय के फैसले ही नजीर बनते हैं। कोर्ट के इस फैसले को आधार को बनाकर नए विवाद खड़े करने की संभावना है। उन्होंने बोर्ड अध्यक्ष की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए बैठक में शामिल न होने का निर्णय किया है।

सीबीआई जांच से खुद को बचाने का प्रयास कर रहे फारूकी: अब्दुल रज्जाक

ऐसे में सरकार को खुश कर खुद को जांच से बचाने के लिए फारूकी इस तरह का निर्णय ले रहे हैं। अब्दुल रज्जाक ने कहा कि अपना विरोध जताने के लिए वह बैठक में शामिल हो सकते हैं।

और पढो: Amar Ujala

BJP4India myogiadityanath पांच कोड़े लगने चाहिए सब ठीक हो जाएगा। BJP4India myogiadityanath जो मिल रही है ले लेना चाहिए वाड्राजी की नजर पड गई तो उसके लिए भी फिर कोर्ट के चक्कर काटने पड़ेंगे BJP4India myogiadityanath BJP4India myogiadityanath BJP4India myogiadityanath BJP4India myogiadityanath BJP4India myogiadityanath

BJP4India myogiadityanath Waqf vaidh jab hi ho sakta hain jab wakf karnay wala bhumi ka malik ho.Supreme Court harjanay bataur bhumi masjid banane ke liye nirdesh de chukka hain.Sunni waqf board ka dawa tha ki bhumi waqf bhumi hain Ko Court ne kharij kar diya.Harjana lena jayeez hay?Sunni Ulema bataye.

BJP4India myogiadityanath

अयोध्या : मस्जिद के हक के लिए पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा मुस्लिम पक्ष''मस्जिद का स्थान दूसरी जगह क्यों हुआ और मस्जिद के हक में फैसला क्यों नहीं दिया गया'' supremecourtjudgement AyodhyaJudgment AyodhyaVerdict umasribharti BJP4India Muslims BabriMasjidverdict umasribharti BJP4India We should go united nation for justice There is only bhgt thy can't do justice

दिल्ली-उत्तराखंड के बाद असम में भी भूकंप के झटके, लोगों में दहशतBc Dont mess with nature ये भी कभी दिखाई देता है आप को या फिर झूट मानते है इस बात को इसे बायरल करिये सरकार तक पहुचाओ

नुसरत जहां को सांस लेने में हुई तकलीफ, कोलकाता के अस्‍पताल में ICU में भर्तीनुसरत जहां (Nusrat Jahan) को रविवार सुबह 9:30 बजे को कोलकाता के निजी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है. उनके परिवार के मुताबिक उन्‍हें पहले अस्‍थमा की बीमारी भी रही है. | entertainment News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी इस उम्र में अभी से? Allah kare Abhi ke Abhi mar jaye Get well soon.🍁🌷🌺🌻 NusratJahanC

अयोध्या केस में ये 5 मुस्लिम पक्षकार सुप्रीम कोर्ट में दायर करेंगे रिव्यू पिटिशनऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में सुप्रीम कोर्ट के फसले पर रिव्यू पिटिशन दाखिल करने का ऐलान किया है. अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट में कुल 8 मुस्लिम पक्षकार थे और इनमें से पांच ने रिव्यू पिटिशन दाखिल करने का फैसला किया है. भाईचारा का मतलब समझ लो भाईयो मुझे भी मेरे वह सारे मंदिर वापस चाहिये जो हज़ारों मस्जिदों के नीचे दबाएँ गए है सुन ले कुत्ते🐶🐶 ओवेसी.😡 5 एकड़ भी चली जायेगी इनकी.... बाबर सरीखों ने जितने मंदिर तोड़े थे सब वापस दो.... शर्म भी नही आती हमारे मंदिर हमें न दे कर उल्टे हमें ही आंख दिखाने में

न्यायिक और संवैधानिक मर्यादा के साथ होगा अयोध्या में राम मंदिर का निर्माणअयोध्या विवाद लंबे अर्से से कायम था। इसमें आस्था और भावनाओं का टकराव था। इसका न्यायिक मर्यादा के साथ हल सभी के लिए हर्ष एवं संतोष का विषय है। rsprasad Babri msjid destroyed was illegal, Masjid was not build destroying any Ram Mandir,------supreme court said in its verdict. rsprasad जो राम जगत ब्र्हणड का न्याय करता हो।संचालक हो।भगवान नियंता हो।जिसने अल्लाह समेत सभी धरती दुनियाबि रीति रिवाज वाले नष्ट होने वाला जमात कौम बनाया।वो श्रीराम को न्याय करेगा ये जज और congresss का गुलाम चमचा इस्लाम म्लेछ मो अल्लाह कुरान।congres के भरोसे ही अल्लाह भारत मे फल फूल शैतान rsprasad न्यायिक और संबैधानिक गया भाड़ में।क्या इन सब का ठेका हिन्दुओ ने ले रखा है?क्या सभी कानून सम्बिधान हिन्दुओ को परेशान करने के लिए है?सैकड़ो सालों से सुनते आरहा हिन्दू,कोर्ट से बनेगा।जब कोर्ट से बनने की बारी आई तो सुवर कुछ मुल्ले कोंग्रेसि रोड़े अटकाने आगये रीभिव पिटीशन लेकर

सीजेआई बोबडे अयोध्या, निजता के अधिकार सहित ऐतिहासिक फैसलों में रहे शामिलजस्टिस बोबडे रविवार को सेवानिवृत्त हुए जस्टिस रंजन गोगोई का स्थान लेंगे. मुख्य न्यायाधीश के रूप में बोबडे का कार्यकाल करीब 17 महीने का होगा और वह 23 अप्रैल 2021 को सेवानिवृत्त होंगे. इनको भी निजता की जरूरत होगी ही इसलिए दे दिया फैसला ! सारी की सारी तो नखरे दिखा कर अच्छी कीमत पर बिकने वाली ही निकली......

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

20 नवम्बर 2019, बुधवार समाचार

पिछली खबर

आईआईटी और एनआईटी निकाल लेंगे प्रदूषण का समाधान: राष्ट्रपति

अगली खबर

छह महीने में भारतीय बैंकों में हुए 958 अरब रुपये के घोटाले