Taliban, Danishsiddiqui, Afghanistan, Taliban, Pulitzer Prize, Danish Siddiqui, Reuters, India, The Washington Examiner

Taliban, Danishsiddiqui

अमेरिकी मैगजीन का दावा: तालिबान ने भारतीय फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी को जिंदा पकड़ा था, पहचान जाहिर होने के बाद बेरहमी से की हत्या

अमेरिकी मैगजीन का दावा:तालिबान ने भारतीय फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी को जिंदा पकड़ा था, पहचान जाहिर होने के बाद बेरहमी से की हत्या #Taliban #DanishSiddiqui

30-07-2021 08:22:00

अमेरिकी मैगजीन का दावा:तालिबान ने भारतीय फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी को जिंदा पकड़ा था, पहचान जाहिर होने के बाद बेरहमी से की हत्या Taliban DanishSiddiqui

भारत के फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी की अफगानिस्तान में मौत के मामले में एक अमेरिकी मैगजीन ने नया दावा किया है। वॉशिंगटन एग्जामिनर नाम की मैगजीन में पब्लिश एक रिपोर्ट के मुताबिक, दानिश की मौत क्रॉस फायरिंग में नहीं हुई, बल्कि तालिबान के आतंकियों ने उनकी हत्या की थी। इससे पहले यह जानकारी सामने आई थी कि पुलित्जर अवॉर्ड विजेता दानिश की 16 जुलाई को तालिबान और अफगान सेना की क्रॉस फायरिंग में मौत हो गई... | Afghanistan Taliban News ; Pulitzer Prize Winning Photo Journalist Danish Siddiqui Chief Photographer For Reuters In India Was Killed In Afghanistan

भारत के फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी की अफगानिस्तान में मौत के मामले में एक अमेरिकी मैगजीन ने नया दावा किया है। वॉशिंगटन एग्जामिनर नाम की मैगजीन में पब्लिश एक रिपोर्ट के मुताबिक, दानिश की मौत क्रॉस फायरिंग में नहीं हुई, बल्कि तालिबान के आतंकियों ने उनकी हत्या की थी। इससे पहले यह जानकारी सामने आई थी कि पुलित्जर अवॉर्ड विजेता दानिश की 16 जुलाई को तालिबान और अफगान सेना की क्रॉस फायरिंग में मौत हो गई थी। वे रॉयटर्स की ओर से इस संघर्ष को कवर कर रहे थे।

जानें- आतंक का कराची कनेक्शन और खौफनाक साजिश, ऐसे हुआ बड़े आतंकी मॉड्यूल का खुलासा प्रीपेड-पोस्टपेड ट्रांसफर पर अब बार-बार KYC के झंझट से मिलेगा छुटकारा, टेलीकॉम सेक्टर में छाई बदलाव की बहार Time Magazine की 100 'सबसे प्रभावशाली लोगों' की सूची में मोदी-ममता और अदार पूनावाला

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि दानिश पाकिस्तान से सटे इलाके में अफगान बलों के साथ थे। तभी उन पर तालिबान के आतंकवादियों ने घात लगाकर हमला कर दिया था। मैगजीन के मुताबिक, सिद्दीकी की मौत के हालात अब साफ हैं। वह सिर्फ फायरिंग में नहीं मारे गए थे। तालिबान ने उनकी बेरहमी से हत्या की थी।

हमले के दौरान सेना की यूनिट से अलग हो गए थे दानिशरिपोर्ट के मुताबिक, अफगान अधिकारियों ने बताया था कि दानिश अफगान नेशनल आर्मी की एक टीम के साथ स्पिन बोल्डक एरिया में गए थे। यहां तालिबान के साथ अफगान सेना का जोरदार संघर्ष चल रहा है। इसी दौरान तालिबान आतंकियों ने हमला कर टीम को दो हिस्सों में बांट दिया। दानिश, अफगान कमांडर और तीन अफगान सैनिक बाकी यूनिट से अलग हो गए। headtopics.com

इस हमले के दौरान दानिश को छर्रे लगे थे। इसलिए वह और उनकी टीम एक स्थानीय मस्जिद में चले गए। वहां उनका इलाज किया गया। हालांकि, जैसे ही यह खबर फैली कि एक पत्रकार मस्जिद में है, तालिबानी आतंकी वहां पहुंच गए। जांच से पता चला है कि तालिबान ने दानिश की मौजूदगी के कारण ही मस्जिद पर हमला किया था।

दानिश सिद्दीकी की मौत के बाद उनकी याद में देश में कई जगह कार्यक्रम हुए थे।सिर पर वार किए, फिर गोलियों से छलनी कियामैगजीन में दावा किया गया है कि दानिश को तालिबान ने जिंदा पकड़ा था। आतंकियों ने दानिश की पहचान की पुष्टि की और फिर उन्हें व उनके साथ के लोगों को मार डाला। रिपोर्ट लिखने वाले माइकल रुबिन के मुताबिक दानिश की सर्कुलेट की गई फोटो में उनका चेहरा पहचाना जा सकता है। माइकल अमेरिकन एंटरप्राइज इंस्टीट्यूट में सीनियर फेलो भी हैं।

उन्होंने भारत सरकार के एक सूत्र से मिली दूसरी फोटो और एक वीडियो को देखा। उसमें पता चलता है कि तालिबानी आतंकियों ने दानिश के सिर पर कई वार किए और फिर उन्हें गोलियों से छलनी कर दिया।अफगान सेना को जीत का भरोसा थारिपोर्ट में कहा गया है कि दानिश बहुत जोखिम भरा काम कर रहे थे। अफगान सेना ने उनको स्पिन बोल्डक के पास लड़ाई को कवर करने की इजाजत दी क्योंकि उनका मानना ​​था कि वे जीतेंगे।

तालिबान ने दानिश की हत्या कर उनके शव की बुरी हालत की। यह दिखाता है कि वे युद्ध के नियमों या ग्लोबल कम्युनिटी के बर्ताव को नियंत्रित करने वाले सम्मेलनों का सम्मान नहीं करते।उन्होंने कहा कि तालिबान हमेशा क्रूर होते हैं, लेकिन हो सकता है कि दानिश के भारतीय होने के कारण उन्होंने ज्यादा क्रूरता दिखाई हो। वे यह भी संकेत देना चाहते हैं कि पश्चिमी पत्रकारों का उनके कब्जे वाले इलाके में आना ठीक नहीं है। वे उम्मीद करते हैं कि तालिबान की कही बात को ही सच के रूप में स्वीकार किया जाएगा। headtopics.com

डॉक्टर्स का दावा- सफेद दाग का इलाज कर सकती है DRDO की ये दवा UP में जनता की जान की चिंता छोड़ अब्बाजान, चचाजान की राजनीति, देखें 10 तक असमः लड़की से गैंगरेप और मौत के बाद तोड़फोड़-आगजनी, पुलिस को करनी पड़ी फायरिंग

तालिबान ने दानिश की मौत पर जताया था दुख और पढो: Dainik Bhaskar »

प्रधानमंत्री से लेकर रक्षा मंत्री तक...देखें तालिबान की सरकार में कौन-कौन शामिल

तालिबान ने अंतरिम सरकार की घोषणा कर दी है. इस अंतरिम सरकार में प्रधानमंत्री यानी सरकार के प्रमुख की भूमिका में मुल्ला हसन अखुंद होंगे. मुल्ला हसन अखुंद तालिबान की रहबरी शूरा यानी लीडरशिप काउंसिल का चीफ है और तालिबान प्रमुख मुल्ला हिब्तुल्लाह अखुंदजादा के बेहद करीबियों में शामिल हैं. मुल्ला बरादर को तालिबान सरकार में डिप्टी पीएम बनाया गया है. डिप्टी पीएम की भूमिका में मुल्ला हन्नाफी की भी भूमिका रहेगी. इसके अलावा मुल्ला याकूब तालिबान सरकार में रक्षा मंत्री होगा और सिराजुद्दीन हक्कानी तालिबान सरकार में आंतरिक मामलों का मंत्री होगा. शेर मोहम्मद अब्बास स्तनकजई तालिबान सरकार में उपविदेश मंत्री होगा. खैरुल्लाह खैरख्वा तालिबान सरकार में सूचना मंत्री होगा. जबकि तालिबान प्रवक्ता जैबुल्लाह मुजाहिद को उप सूचना मंत्री की जिम्मेदारी मिल रही है. अब्दुल हकीम को तालिबान सरकार का न्याय मंत्री बनाया गया है. ज्यादा जानकारी के लिए देखें खबरदार.

तो लानत किसे भेजना हैं,,!!!! Mujhe to lagta hai ki isme bhi Indian government kaa haath ho sakta hai,

अमेरिकी मैगजीन का खुलासा: दानिश सिद्दीकी की पहचान के बाद तालिबान ने की नृशंस हत्याअमेरिकी मैगजीन का खुलासा: दानिश सिद्दीकी की पहचान के बाद तालिबान ने की नृशंस हत्या USmagazine DanishSiddique Afghanistan नफरत का बाजार कितना गर्म है धर्म के नाम पर यहाँ तो कुछ लोग मौत पर जश्न मना रहे थे...जबकि हत्या का कारण उनका भारतीये होना था का वर्षा जब कृषि सुखाने napak kayrana harkat

एस्ट्राजेनेका: अमेरिका में अपने कोविड टीके की अनुमति के लिए साल के अंत में करेगी आवेदनएस्ट्राजेनेका: अमेरिका में अपने कोविड टीके की अनुमति के लिए साल के अंत में करेगी आवेदन LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMO India MoHFW_INDIA ICMRDELHI

सफलता: गुजरात एटीएस की गिरफ्त में 2500 करोड़ की ड्रग्स के मामलों में वांछित आरोपीसफलता: गुजरात एटीएस की गिरफ्त में 2500 करोड़ की ड्रग्स के मामलों में वांछित आरोपी Gujarat ATS =CrimeNews Drugs

अमेरिका: पढ़ाई के बाद विदेशी छात्रों के देश में रुकने के खिलाफ संसद में विधेयक पेशअमेरिका: पढ़ाई के बाद विदेशी छात्रों के देश में रुकने के खिलाफ संसद में विधेयक पेश America Parliament Student Visa ForeignStudent Study Follow back चाहिए तो तुरन्त फॉलो करें 👉gsbsingham10💯 follow 🔙

आईएमएफ ने भारत की विकास दर के पूर्वानुमान में की भारी कटौती | DW | 28.07.2021अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने एशियाई अर्थव्यवस्थाओं की वृद्धि के पूर्वानुमान में भारी कमी की है. कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों और टीकाकरण की धीमी रफ्तार का असर उभरती अर्थव्यवस्थाओं की रफ्तार पर नजर आ रहा है. i know this

किसान की बेटी के डॉक्टर बनने का सपना पूरा करने में मदद की तेंदुलकर नेदिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने फिर से परोपकार की अपनी भावना दिखाते हुए एक गरीब किसान की बेटी दीप्ति विश्वासराव का चिकित्सा की पढ़ाई करने का सपना पूरा करने में मदद की FarmerDaughter SachinTendulkar DiptiVishvasrao sachin_rt DasharathDipti