Usa, Whitehouse, Indianyouth, Indian Youth, Us Mp, Us News, White House, America News, Joe Biden, World News İn Hindi, World News İn Hindi, World Hindi News

Usa, Whitehouse

अमेरिका: निर्वासन पर व्हाइट हाउस पहुंचे भारतीय युवा, कहा- यहीं रहने दें

अमेरिका: निर्वासन पर व्हाइट हाउस पहुंचे भारतीय युवा, कहा- यहीं रहने दें #USA #WhiteHouse #IndianYouth

25-06-2021 23:54:00

अमेरिका: निर्वासन पर व्हाइट हाउस पहुंचे भारतीय युवा, कहा- यहीं रहने दें USA WhiteHouse IndianYouth

अमेरिका में निर्वासन की आशंकाओं का सामना कर रहे भारतीय युवाओं का एक समूह ने देश भर से व्हाइट हाउस पहुंचा और वहां बाइडन

इन भारतीय युवाओं ने उनसे अमेरिका में ही रहने देने की अपील की है। अमेरिका में ऐसे दो लाख युवा बचपन या किशोरावस्था में बिना वैध दस्तावेजों के यहां पहुंचे थे और अब युवा हो चुके हैं।अमेरिका में इन युवाओं को ड्रीमर्स कहा जाता है और इनमें बड़ी संख्या में ऐसे युवा शामिल हैं जिनके माता-पिता ग्रीन कार्ड के इंतजार में हैं। इलिनोइस में क्लीनिकल फर्मासिस्ट दीप पटेल के नेतृत्व में युवा भारतीयों का समूह जब व्हाइट हाउस पहुंचा तो उन्हें देख सांसद भी हैरत में पड़ गए। 25 वर्षीय पटेल इस समूह के सह-संस्थापक हैं।

तालिबान की तिजोरी खाली, अमेरिका सख़्त; पाकिस्तान, तुर्की, यूरोप तक आँच, चीन-रूस से बनेगी बात - BBC News हिंदी VIDEO: ''खबर आ रही है कि इस तस्वीर से योगी जी इतने व्यथित हो गए कि..'' प्रियंका गांधी का CM योगी पर हमला कृषि क़ानून पर केंद्र सरकार को ही मानना पड़ेगा, किसान नहीं मानेंगे: सत्यपाल मलिक - BBC News हिंदी

समूचे अमेरिका में प्रत्यर्पण के मामलों का सामना करने वाले इन युवाओं ने अपील की है कि हमें प्रत्यर्पित न करें। उन्होंने कहा, हमें अमेरिका में हमारे घर में रहने दें। इन्हें सांसदों व विधायकों की ओर से आश्वासन दिया गया और धीरज रखने को कहा गया।साथ ही अमेरिकी सांसदों ने इन युवाओं की हिम्मत और कोशिशों की सराहना भी की। व्हाइट हाउस पहुंचने वालों में आयोवा से माइनिंग व बायोमेडिकल इंजीनियरिंग करने वाले 21 वर्षीय परीन म्हात्रे व कैलिफोर्निया के नागा राघव श्रीराम भी शामिल रहे।

छह युवाओं से प्रभावित हुए अमेरिकी सांसदव्हाइट हाउस पहुंचने वाले छह भारतीय युवाओं की हिम्मत से अमेरिकी सांसद भी प्रभावित हुए। उन्होंने युवाओं को सांत्वना दी है। इन युवाओं ने पिछले सप्ताह पूरा वक्त अमेरिकी राजधानी में बिताया। इस दौरान अमेरिकी संसद के दोनों सदनों के सदस्य और सीनेटर उनसे व्यक्तिगत रूप से मिले। सभी ने उनके साहस और पैरवी की कोशिशों की सराहना की। headtopics.com

निर्वासन की तलवारअमेरिका में बिना वैध दस्तावेजों को यहां पहुंचे इन युवाओं का जन्म भारत में हुआ था। उन्हें बचपन में ही 2005 के आसपास कनाडा से होते हुए अमेरिका ले जाया गया। वर्तमान में वे अमेरिका के डीएसीए कार्यक्रम पर निर्भर हैं जो 2012 में पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने उनका निर्वासन रोकने के लिए रखा था। ट्रंप प्रशासन में यह कार्यक्रम रद्द कर दिया गया। ऐसे में इन पर निर्वासन की तलवार लटकी हुई है।

विस्तार प्रशासन से वरिष्ठ अधिकारियों व प्रभावशाली सांसदों से मिला।विज्ञापनइन भारतीय युवाओं ने उनसे अमेरिका में ही रहने देने की अपील की है। अमेरिका में ऐसे दो लाख युवा बचपन या किशोरावस्था में बिना वैध दस्तावेजों के यहां पहुंचे थे और अब युवा हो चुके हैं।

अमेरिका में इन युवाओं को ड्रीमर्स कहा जाता है और इनमें बड़ी संख्या में ऐसे युवा शामिल हैं जिनके माता-पिता ग्रीन कार्ड के इंतजार में हैं। इलिनोइस में क्लीनिकल फर्मासिस्ट दीप पटेल के नेतृत्व में युवा भारतीयों का समूह जब व्हाइट हाउस पहुंचा तो उन्हें देख सांसद भी हैरत में पड़ गए। 25 वर्षीय पटेल इस समूह के सह-संस्थापक हैं।

समूचे अमेरिका में प्रत्यर्पण के मामलों का सामना करने वाले इन युवाओं ने अपील की है कि हमें प्रत्यर्पित न करें। उन्होंने कहा, हमें अमेरिका में हमारे घर में रहने दें। इन्हें सांसदों व विधायकों की ओर से आश्वासन दिया गया और धीरज रखने को कहा गया।साथ ही अमेरिकी सांसदों ने इन युवाओं की हिम्मत और कोशिशों की सराहना भी की। व्हाइट हाउस पहुंचने वालों में आयोवा से माइनिंग व बायोमेडिकल इंजीनियरिंग करने वाले 21 वर्षीय परीन म्हात्रे व कैलिफोर्निया के नागा राघव श्रीराम भी शामिल रहे। headtopics.com

महंगे पेट्रोल-डीजल पर हरकत में PMO, तेल कंपनियों के CEO के साथ PM मोदी की हाई लेवल मीटिंग जारी आगरा में पुलिस हिरासत में सफ़ाईकर्मी की मौत, क्या है पूरा मामला? - BBC News हिंदी VIDEO: जब प्रियंका गांधी के साथ सेल्‍फी के लि‍ए महिला पुलिसकर्मियों में मची होड़...

छह युवाओं से प्रभावित हुए अमेरिकी सांसदव्हाइट हाउस पहुंचने वाले छह भारतीय युवाओं की हिम्मत से अमेरिकी सांसद भी प्रभावित हुए। उन्होंने युवाओं को सांत्वना दी है। इन युवाओं ने पिछले सप्ताह पूरा वक्त अमेरिकी राजधानी में बिताया। इस दौरान अमेरिकी संसद के दोनों सदनों के सदस्य और सीनेटर उनसे व्यक्तिगत रूप से मिले। सभी ने उनके साहस और पैरवी की कोशिशों की सराहना की।

निर्वासन की तलवारअमेरिका में बिना वैध दस्तावेजों को यहां पहुंचे इन युवाओं का जन्म भारत में हुआ था। उन्हें बचपन में ही 2005 के आसपास कनाडा से होते हुए अमेरिका ले जाया गया। वर्तमान में वे अमेरिका के डीएसीए कार्यक्रम पर निर्भर हैं जो 2012 में पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने उनका निर्वासन रोकने के लिए रखा था। ट्रंप प्रशासन में यह कार्यक्रम रद्द कर दिया गया। ऐसे में इन पर निर्वासन की तलवार लटकी हुई है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

झूठ के सहारे सावरकर का महिमामंडन क्यों? | Arfa Khanum SHerwani | Savarakar | The Wire Video LIVE

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि विनयाक दामोदर सावरकर के 'दया याचिका' दायर करने को एक ख़ास वर्ग ने ग़लत तरीक़े से फैलाया. उन्होंने दावा किया कि सावरकर न...

राकेश टिकैत बोले- 26 तारीख़ माफ नहीं करेगी, यही करेगी सरकार का इलाजराकेश टिकैत ने कहा कि 26 जनवरी को जो ट्रैक्टर आए थे वे यहीं के थे ना कि अफगानिस्तान से आए थे और 25 लाख लोग भी यहीं के हैं।

'तमिलनाडु में सबको साथ लेकर नहीं चल रही BJP, ब्राह्मण अखबार ने दिखाया सच लिखने का साहस'ब्राह्मणों और अपने गृह-राज्य तमिलनाडु के मुद्दे पर मुखर रहने वाले सुब्रमण्यम स्वामी ने भाजपा इकाई पर ही साधा निशाना।

चीन ने एस जयशंकर की टिप्पणी पर कठोरता से दिया जवाब - BBC News हिंदीविदेश मंत्री एस जयशंकर ने क़तर इकनॉमिक फोरम में चीन के साथ सीमा विवाद पर जो कुछ भी कहा, उस पर चीन ने बड़ी तल्ख़ी से जवाब दिया है. Merit_Scam_STET2019 जो जवाब को कठोर लग रहा है वह दरअसल ...खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे वाली कहावत भर है। Tu news kam dalali jada karta hai indian ko news dena maksad hai ya dhamkana maksad hai Desh virodhi agenda kabhi nhi chorte

ऑक्सीजन रिपोर्ट पर सिसोदिया: ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं, झूठ बोल रहे बीजेपी नेता - BBC News हिंदीजिस रिपोर्ट के आधार पर बीजेपी नेताओं ने कहा कि 'माफ़ी माँगें केजरीवाल', आप ने कहा कि 'वो रिपोर्ट आयी ही नहीं.' ArvindKejriwal ye jo tu Faltu ki Advertisment Ke paise fhook raha h Sabka badla janta legi tere se Jo Teri latest ad Tunne Puri delhi Mai lagwa Rakhi h iska ek fayda Bata de Inn paiso se gareebo ka fayda ho sakta tha KejriwalChorBanGayaHai मारो, इसको मारो👇

'ऑक्सीजन रिपोर्ट' पर सिसोदिया: ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं, झूठ बोल रहे बीजेपी नेता - BBC News हिंदीजिस रिपोर्ट के आधार पर बीजेपी नेताओं ने कहा कि 'माफ़ी माँगें केजरीवाल', आप ने कहा कि 'वो रिपोर्ट आयी ही नहीं.' यह तो पहले ही पता था ▬▬▬.◙.▬▬▬ ═▂▄▄▓▄▄▂ ◢◤ █▀▀████▄▄▄▄◢◤ █▄ █ █▄ ███▀▀▀▀▀▀▀╬ ◥█████◤ ══╩══╩═ ╬═╬ ╬═╬ ╬═╬ ╬═╬ ╬═╬ Just dropped down to ╬═╬ say ╬═╬ ╬═╬☻/ BharatiyaJhuthiParty ╬═╬/▌ ╬═╬/ \\ आपदा एक्ट । 12 राज्यों में लोगों को मारने के आरोप में केजरीवाल पर मुकदमा चलाने में कोई परेशानी नहीं है। सरकार को हटाया जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट भी केजरी सरकार के विरुद्ध स्वतः संज्ञान भी ले कर कार्रवाई कर सकते हैं। यह आपराधिक मामला है।

अमर उजाला विशेष: कोरोना के नौ वैरिएंट ने दुनिया में अब तक मचाई तबाही, तीन अकेले डेल्टा से जुड़ेअमर उजाला विशेष: कोरोना के नौ वैरिएंट ने दुनिया में अब तक मचाई तबाही, तीन अकेले डेल्टा से जुड़े AmarUjalaSpecial DeltaVariant DeltaPlusVariant AlphaVariant CoronaUpdate Coronavirus drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI