Taliban, Afghan, Pakistan, अफगानिस्तान, तालिबान, अमेरिका, फौज, युद्ध अपराध, हिंसा, दूतावास, यूनाइटेड किंग्डम

Taliban, Afghan

अमेरिका और ब्रिटेन ने कहा, 'तालिबान नागरिकों का नरसंहार कर रहे हैं' | DW | 03.08.2021

अमेरिका और ब्रिटेन ने तालिबान पर पाकिस्तानी सीमा के पास हाल ही में कब्जा किए गए शहर में 'नागरिकों की हत्या' करने का आरोप लगाया है. #Taliban #Afghan #Pakistan

03-08-2021 15:06:00

अमेरिका और ब्रिटेन ने तालिबान पर पाकिस्तानी सीमा के पास हाल ही में कब्जा किए गए शहर में 'नागरिकों की हत्या' करने का आरोप लगाया है. Taliban Afghan Pakistan

अफगानिस्तान में अमेरिका और ब्रिटिश दूतावास ों ने तालिबान पर नागरिकों से संभावित बदले की भावना से हत्या करने का आरोप लगाया है. तालिबान ने इस आरोप से इनकार किया है.

दोहा स्थित तालिबान वार्ता दल के सदस्य सुहैल शाहीन ने रॉयटर्स को बताया कि आरोपों वाले ट्वीट"निराधार रिपोर्ट" हैं.तालिबान के खिलाफ युद्ध अपराधों के आरोपअमेरिकी दूतावास ने एक बयान ट्वीट कर तालिबान पर दक्षिणी कंधार प्रांत के स्पिन बोलदाक क्षेत्र में दर्जनों नागरिकों की हत्या करने का आरोप लगाया. यहां भारी लड़ाई हुई थी. बयान को ब्रिटिश दूतावास ने भी ट्वीट किया था.

बांग्लादेश में इस्कॉन मंदिर पर हमला, एक श्रद्धालु की मौत - BBC News हिंदी टी-20 क्रिकेट वर्ल्ड कप आज से शुरू, जानिए किस ग्रुप में कौन और कब-कब मैच - BBC News हिंदी VIDEO: युवक संग स्कूटी पर बैठी थी युवती, भीड़ ने जबरन उतरवाया बुर्का, महिलाओं ने हिजाब भी खींचा

अमेरिका और ब्रिटेन का बयान अफगान स्वतंत्र मानवाधिकार आयोग (एआईएचआरसी) की एक रिपोर्ट के बाद आया है जिसमें कहा गया है कि आतंकवादियों ने स्पिन बोलदाक में"बदले के लिए हत्या" की थी.आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा,"तालिबान ने मौजूदा और पूर्व सरकारी अधिकारियों की पहचान की और उनके खिलाफ जवाबी कार्रवाई की. उन्होंने उन लोगों को भी मार डाला जिनकी संघर्ष में कोई भूमिका नहीं थी." अमेरिकी और ब्रिटिश दूतावासों ने अलग-अलग ट्वीट में कहा कि हत्याएं"युद्ध अपराधों के समान" थीं.

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने भी तालिबानी नेताओं की आलोचना करते हुए कहा कि यह खबर"बेहद परेशान करने वाली और पूरी तरह से अस्वीकार्य" है. उन्होंने कहा कि तालिबान जो अंतरराष्ट्रीय मान्यता चाहता है इन ज्यादतियों के कारण संभव नहीं होगा. headtopics.com

"तालिबान ने मौजूदा और पूर्व सरकारी अधिकारियों की पहचान की और उनके खिलाफ जवाबी कार्रवाई की."अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने एक बयान में कहा,"तालिबान के हमले दिखाते हैं कि उनके मन में मानव जीवन के लिए कोई सम्मान नहीं है. अगर वे बातचीत के जरिए विवाद का हल निकालने में वाकई ईमानदार हैं तो उन्हें इस तरह के भीषण हमलों को रोकना होगा."

तालिबान के लड़ाकों ने 31 जुलाई और 1 अगस्त को भारी लड़ाई के बाद 2 अगस्त को तीन प्रांतीय राजधानियों लश्कर गाह, कंधार और हेरात पर धावा बोल दिया. जिसके बाद हजारों नागरिकों को अपने घरों से भागने के लिए मजबूर होना पड़ा है.अफगान सरकार द्वारा सैकड़ों कमांडो की तैनाती की घोषणा के कुछ ही घंटों बाद तालिबान ने हेलमंद की राजधानी लश्कर गाह में सिटी सेंटर और जेल पर एक साथ हमला किया.

इस बीच तालिबान ने लश्कर गाह पर दबाव बढ़ा दिया है. विश्लेषकों का कहना है कि अगर तालिबान का वहां नियंत्रण हो जाता है, तो यह सरकार के लिए यह एक बड़ा सैन्य और मनोवैज्ञानिक झटका होगा."अमेरिका जिम्मेदार"अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी ने देश में बिगड़ती सुरक्षा स्थिति के लिए अमेरिका को जिम्मेदार ठहराया है. विदेशी सैनिकों की वापसी का जिक्र करते हुए गनी ने अफगान संसद में कहा,"हमारी मौजूदा स्थिति का कारण यह है कि यह फैसला अचानक लिया गया. सुरक्षाबलों की वापसी के गंभीर परिणाम होंगे."

राष्ट्रपति का बयान तब आया जब वॉशिंगटन ने घोषणा की कि वह देश में बढ़ती हिंसा के मद्देनजर हजारों और अफगान शरणार्थियों को निकालने के लिए तैयार है. इसमें वे लोग शामिल हैं जिन्होंने सालों से अमेरिका के लिए काम किया है.वॉशिंगटन ने पिछले दो दशकों में अमेरिकी सेना और दूतावास में सेवा देने वाले हजारों अनुवादकों और उनके परिवारों को देश से निकालना शुरू कर दिया है. headtopics.com

वीर सावरकर जैसी देशभक्ति की भावना और किसी में नहीं, अंडमान व निकोबार में बोले अमित शाह भास्कर LIVE अपडेट्स: मनीष गुप्ता हत्याकांड: आज मनीष के दोस्तों संग 512 नंबर कमरे का सीन रीक्रिएट कराएगी SIT कांग्रेस के दोबारा अध्यक्ष बनेंगे राहुल गांधी? CWC बैठक में बोले- करूंगा विचार

एए/वीके (रॉयटर्स, एएफपी)चले गए अमेरिकी, छोड़ गए कचराजहां तक नजर जाए2021 में 11 सितंबर की बरसी से पहले अमेरिकी सेना बगराम बेस को खाली कर देना चाहती है. जल्दी-जल्दी काम निपटाए जा रहे हैं. और पीछे छूट रहा है टनों कचरा, जिसमें तारें, धातु और जाने क्या क्या है.

चले गए अमेरिकी, छोड़ गए कचराकुछ काम की चीजेंअभी तो जहां कचरा है, वहां लोगों की भीड़ कुछ अच्छी चीजों की तलाश में पहुंच रही है. कुछ लोगों को कई काम की चीजें मिल भी जाती हैं. जैसे कि सैनिकों के जूते. लोगों को उम्मीद है कि ये चीजें वे कहीं बेच पाएंगे.चले गए अमेरिकी, छोड़ गए कचरा

इलेक्ट्रॉनिक खजानाकुछ लोगों की नजरें इलेक्ट्रोनिक कचरे में मौजूद खजाने को खोजती रहती हैं. सर्किट बोर्ड में कुछ कीमती धातुएं होती हैं, जैसे सोने के कण. इन धातुओं को खजाने में बदला जा सकता है.चले गए अमेरिकी, छोड़ गए कचराबच्चे भी तलाश मेंकचरे के ढेर से कुछ काम की चीज तलाशते बच्चे भी देखे जा सकते हैं. नाटो फौजों के देश में होने से लड़कियों को और महिलाओं को सबसे ज्यादा लाभ हुआ था. वे स्कूल जाने और काम करने की आजादी पा सकी थीं. डर है कि अब यह आजादी छिन न जाए.

चले गए अमेरिकी, छोड़ गए कचराकुछ निशानियांकई बार लोगों को कचरे के ढेर में प्यारी सी चीजें भी मिल जाती हैं. कुछ लोग तो इन चीजों को इसलिए जमा कर रहे हैं कि उन्हें इस वक्त की निशानी रखनी है.चले गए अमेरिकी, छोड़ गए कचराखतरनाक है वापसी1 मई से सैनिकों की वापसी आधिकारिक तौर पर शुरू हुई है. लेकिन सब कुछ हड़बड़ी में हो रहा है क्योंकि तालीबान के हमले का खतरा बना रहता है. इसलिए कचरा बढ़ने की गुंजाइश भी बढ़ गई है. headtopics.com

चले गए अमेरिकी, छोड़ गए कचराकहां जाएगा यह कचरा?अमेरिकी फौजों के पास जो साज-ओ-सामान है, उसे या तो वे वापस ले जाएंगे या फिर स्थानीय अधिकारियों को दे देंगे. लेकिन तब भी ऐसा बहुत कुछ बच जाएगा, जो किसी खाते में नहीं होगा. इसमें बहुत सारा इलेक्ट्रॉनिक कचरा है, जो बीस साल तक यहां रहे एक लाख से ज्यादा सैनिकों ने उपभोग करके छोड़ा है.

चले गए अमेरिकी, छोड़ गए कचराबगराम का क्या होगा?हिंदुकुश पर्वत की तलहटी में बसा बगराम एक ऐतिहासिक सैन्य बेस है. 1979 में जब सोवियत संघ की सेना अफगानिस्तान आई थी, तो उसने भी यहीं अपना अड्डा बनाया था. लेकिन, अब लोगों को डर सता रहा है कि अमरीकियों के जाने के बाद यह जगह तालीबान के कब्जे में जा सकती है.

नेताजी सुभाष चंद्र बोस और सरदार पटेल को वर्षो तक नहीं मिला सही सम्मान : अमित शाह पाकिस्तान में अचानक इतना महंगा क्यों किया गया पेट्रोल-डीज़ल - BBC Hindi 'केंद्र सरकार कोयला उद्योग का कर सकती है निजीकरण...', कांग्रेस नेता ने CM सोरेन को लिखा पत्र

चले गए अमेरिकी, छोड़ गए कचरासोचो, साथ क्या जाएगाक्या नाटो के बीस साल लंबे अफगानिस्तान अभियान का हासिल बस यह कचरा है? स्थानीय लोग इसी सवाल का जवाब खोज रहे हैं. और पढो: DW Hindi »

दुर्गा पंडाल- इस्कॉन मंदिर पर अटैक, देखें बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमलों का विश्लेषण

बांग्लादेश में पिछले चार दिनों में हिंदू मंदिरों पर लगातार हमले हो रहे हैं. शुक्रवार को बांग्लादेश के नोआखाली इलाके में इस्कॉन मंदिर में भीड़ ने हमला कर दिया. मूर्तियों को तोड़ा गया और एक हिंदू श्रद्धालु की जान ले ली गई. इससे पहले वहां कई दुर्गा पूजा पंडालों पर बहुसंख्यक मुस्लिम कट्टरपंथियों की भीड़ ने अटैक किया था और तोड़फोड़ मचाई थी. जिसके बाद बांग्लादेश के हिंदू समुदाय दावा कर रहा है कि 1971 के बाद पहली बार बांग्लादेश में हिंदुओं पर इतने बड़े हमले हो रहे हैं. देखें खबरदार.

भारत की कुछ आर्थिक नीतियों से अमेरिका चिंतित, एंटनी ब्लिंकन ने दर्ज कराई आपत्तिसूत्रों की मानें तो अमेरिका को जून 2021 में भारत सरकार की तरफ से प्रस्तावित ई-कामर्स नीतियों को लेकर काफी परेशानी हो रही है। इंडो-अमेरिकन चैंबर आफ कामर्स ने भी एक बयान जारी कर ई-कामर्स नीति को द्विपक्षीय कारोबार को हतोत्साहित करने वाला करार दिया था। myogiadityanath CMOfficeUP DMKanpur RSSorg CommissionerKnp kpmaurya1 aajtak कानपुर जिले के पतारा क्षेत्र में तरगाव ग्राम के निकट करोड़ो की लागत से बना गौशाला भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया. कोई चारे की व्यवस्था नहीं है रोज पशु भूख से मर रहे हैं.अंदर बन्द करके रखा गया है बस पूरे पुलिस बल के साथ कृषि बिलों के फायदे गांव में समझाने गए थे,नेता जी, देखिए हाल क्या हुआ। पार्टी का नाम लिखने की जरूरत नहीं। 😄 सांसद जी भी जाने वाले हैं,भगवान भला करे।

Disney+ Hotstar ने लगाई रियलिटी शो सहित स्पेशल शोज़ और फिल्मों की झड़ीDisney+ Hotstar ने लगाई रियलिटी शो सहित स्पेशल शोज़ और फिल्मों की झड़ी DisneyPlusHotstarMultiplex Waiting

Lalu Yadav और Mulayam Singh ने की मुलाकात, Akhilesh Yadav भी मौजूदआरजेडी अध्यक्ष लालू यादव ने मुलायम सिंह के साथ मुलाकात की एक तस्वीर ट्वीट की है. इस दौरान अखिलेश यादव भी साथ थे. लालू यादव ने लिखा है - गांव-देहात, खेत-खलिहान, गैर-बराबरी, अशिक्षा, किसानों, गरीबों युवाओं व बेरोजगारों के लिए हमारी सांझी चिंताएं और लड़ाई है. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी दोनों नेताओं की मुलाकात की तस्वीरें साझा की जिसमें दोनों चाय पीते नजर आ रहे हैं. बता दें कि लालू प्रसाद यादव जमानत पर बाहर हैं और अभी नई दिल्ली में अपनी बेटी और सांसद मीसा भारती के आवास पर रुके हुए हैं. लगता है कोई फाइव स्टार होटल में बैठे है? क्या एहि लोग गरीब , भइंस में बैठने बाले के राजनीति करते है!

सुप्रीम कोर्ट ने रेपिस्ट पादरी और रेप सर्वाइवर की शादी को किया नामंज़ूर - BBC News हिंदीएक पूर्व कैथोलिक पादरी और उसके बलात्कार की पीड़िता के बीच विवाह को नामंज़ूर करने के सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का चर्च के सदस्यों के साथ-साथ नारीवादी धर्मशास्त्रियों ने स्वागत किया है. Check out my Gig on Fiverr: I will make amazing animated intro outro videos What place he held and what shameful act. Such marriages should never be allowed. निर्णय तो सही ही है यह100% नागरिक मन और स्नेह वश ग्लानि पश्चाताप से कोर्ट को क्या मतलब?

रास्ता पूछने के बहाने युवक ने की छेड़छाड़, लड़की ने यूं सिखाया सबकगुवाहाटी की रहने वाली भावना कश्यप (Bhavna Kashyap) ने पूरी घटना की जानकारी अपने फेसबुक पोस्ट (Facebook Post) के जरिए दी है. उन्होंने लिखा कि बीच रोड आरोपी युवक पता पूछने के बहाने मेरे पास आया. कुछ सेंकेंड की बात के बाद उसने मेरा प्राइवेट पार्ट छूने लगा, विरोध करने पर वहां से भागने की कोशिश करने लगा.

गनी ने कहा- तालिबान अधिक क्रूर और दमनकारी, तालिबान को मदद पहुंचाने के लिए पाक को लगाई फटकार अफगानिस्तान के स्वतंत्र मानवाधिकार आयोग ने कहा है कि तालिबान आम लोगों को निशाना बना रहा है। आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इस साल के पहले छह महीने में 1677 नागरिक मारे गए हैं और 3644 घायल हुए हैं।