अमर उजाला खास: उत्तराखंड सरकार ने देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम पर लिया फैसला, अब भू कानून की बारी

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम पर कदम पीछे खींचने के बाद प्रदेश सरकार पर भू कानून को लेकर दबाव बन गया है।

Uttarakhand, Devsthanamboard

02-12-2021 02:34:00

अमर उजाला खास: उत्तराखंड सरकार ने देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम पर लिया फैसला, अब भू कानून की बारी Uttarakhand DevsthanamBoard

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम पर कदम पीछे खींचने के बाद प्रदेश सरकार पर भू कानून को लेकर दबाव बन गया है।

देवस्थानम बोर्ड: धर्म की सियासत में सीएम धामी का बड़ा दांव, विपक्ष से चुनावी मुद्दा छीनकर एक तीर से साधे दो निशानेतीर्थ पुरोहितों की तरह ही राज्य में विभिन्न संगठनों के बैनर तले सशक्त भू कानून की मांग को लेकर लोग आंदोलित हैं। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने भी भू कानून को चुनावी मुद्दा बनाया। आम आदमी पार्टी से लेकर उत्तराखंड क्रांति दल समेत अन्य सामाजिक संगठन भी सरकार से मजबूत भू कानून बनाए जाने की मांग कर रहे हैं।

यूपी चुनाव: नोएडा में छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल के ख़िलाफ़ एफ़आईआर - BBC Hindi

चौतरफा मांग को देखते हुए मुख्यमंत्री धामी ने पूर्व मुख्य सचिव सुभाष कुमार की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया था, जिसमें पूर्व आईएएस अधिकारी डीएस गर्ब्याल और अरुण कुमार ढौंडियाल के अलावा भाजपा नेता अजेंद्र अजेय सदस्य हैं। समिति ने लोगों से सार्वजनिक सूचना के माध्यम से सुझाव मांगे थे। अब तक उसके पास 163 सुझाव पहुंच चुके हैं। अब इन सुझावों पर विचार विमर्श के बाद जन सुनवाई होगी। अब भू कानून को लेकर दबाव बढ़ने के आसार हैं।

हिमाचल की तर्ज पर भू कानून चाहते हैं लोगसमिति के पास जो सुझाव पहुंचे हैं, उनमें ज्यादातर लोगों ने हिमाचल की तर्ज पर भू कानून की मांग की है। सरकार को राज्य से बाहर दिल्ली और हिमाचल से भी अप्रवासी उत्तराखंडियों के सुझाव प्राप्त हुए हैं।भू-कानून का विरोध करने वालों का मानना है कि प्रदेश में ‘उत्तर प्रदेश जमींदारी उन्मूलन और भूमि व्यवस्था सुधार अधिनियम 1950 संशोधन कानून 2018 को जमीन की खरीद फरोख्त के नियमों को लचीला बना दिया गया। अब कोई भी पूंजीपति प्रदेश में कितनी भी जमीन खरीद सकता है। headtopics.com

इसके तहत पहाड़ में उद्योग लगाने के लिए भूमिधर स्वयं भूमि बेचे या उससे कोई भूमि खरीदेगा तो भूमि को अकृषि कराने के लिए अलग से कोई प्रक्रिया नहीं अपनानी होगी। औद्योगिक प्रायोजन से भूमि खरीदने पर भूमि का स्वत: भू उपयोग बदल जाएगा। अधिनियम की धारा 154 (4) (3) (क) की उपधारा (2) जोड़ी गई। इसके तहत 12.5 एकड़ भूमि की बाध्यता और किसान होने की अनिवार्यता भी खत्म कर दी गई है।

चुनाव आयोग ने पत्रकारों को भी पोस्टल बैलट के जरिए वोट डालने की दी इजाजत - BBC Hindi

समिति की सात दिसंबर को बैठक बुलाई है। जिन्होंने अपने सुझावों के साथ अपना पक्ष रखने को कहा है, उनकी सुनवाई भी की जाएगी। हमने आपत्ति और सुझाव मांगे थे, जो हमें प्राप्त हो चुके हैं। आपत्तियां सुनने के बाद हम रिपोर्ट फाइनल कर देंगे।- सुभाष कुमार, अध्यक्ष, भू कानून अध्ययन समिति

मुख्यमंत्री भू कानून के मामले में गंभीर हैं। जिस तरह देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम पर उन्होंने जनभावना के अनुरूप निर्णय लिया, उसी तरह भू कानून के मामले में भी निर्णय लेंगे।- अजेंद्र अजय, सदस्य, भू कानून अध्ययन समितिविस्तार सबकी निगाहें अब सरकार पर लगी हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भू कानून को लेकर पूर्व मुख्य सचिव सुभाष कुमार की अध्यक्षता में जो कमेटी गठित की है उसने सात दिसंबर को देहरादून में एक अहम बैठक बुला ली है। इस बैठक के बाद समिति उसे अब तक प्राप्त हो चुके 163 सुझावों पर मंथन करेगी। इस दौरान जन सुनवाई के बाद समिति अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप दे सकती है।

विज्ञापनदेवस्थानम बोर्ड: धर्म की सियासत में सीएम धामी का बड़ा दांव, विपक्ष से चुनावी मुद्दा छीनकर एक तीर से साधे दो निशानेतीर्थ पुरोहितों की तरह ही राज्य में विभिन्न संगठनों के बैनर तले सशक्त भू कानून की मांग को लेकर लोग आंदोलित हैं। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने भी भू कानून को चुनावी मुद्दा बनाया। आम आदमी पार्टी से लेकर उत्तराखंड क्रांति दल समेत अन्य सामाजिक संगठन भी सरकार से मजबूत भू कानून बनाए जाने की मांग कर रहे हैं। headtopics.com

भारत में चलेगी टेस्ला कार: मस्क ने उठाए थे सरकारी सिस्टम पर सवाल, तेलंगाना-महाराष्ट्र से मिला फैक्ट्री लगाने का न्यौता; सिद्धू भी बोले- पंजाब मॉडल में स्वागत

चौतरफा मांग को देखते हुए मुख्यमंत्री धामी ने पूर्व मुख्य सचिव सुभाष कुमार की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया था, जिसमें पूर्व आईएएस अधिकारी डीएस गर्ब्याल और अरुण कुमार ढौंडियाल के अलावा भाजपा नेता अजेंद्र अजेय सदस्य हैं। समिति ने लोगों से सार्वजनिक सूचना के माध्यम से सुझाव मांगे थे। अब तक उसके पास 163 सुझाव पहुंच चुके हैं। अब इन सुझावों पर विचार विमर्श के बाद जन सुनवाई होगी। अब भू कानून को लेकर दबाव बढ़ने के आसार हैं।

हिमाचल की तर्ज पर भू कानून चाहते हैं लोगसमिति के पास जो सुझाव पहुंचे हैं, उनमें ज्यादातर लोगों ने हिमाचल की तर्ज पर भू कानून की मांग की है। सरकार को राज्य से बाहर दिल्ली और हिमाचल से भी अप्रवासी उत्तराखंडियों के सुझाव प्राप्त हुए हैं।विरोध को लेकर हैं कई आशंकाएं

भू-कानून का विरोध करने वालों का मानना है कि प्रदेश में ‘उत्तर प्रदेश जमींदारी उन्मूलन और भूमि व्यवस्था सुधार अधिनियम 1950 संशोधन कानून 2018 को जमीन की खरीद फरोख्त के नियमों को लचीला बना दिया गया। अब कोई भी पूंजीपति प्रदेश में कितनी भी जमीन खरीद सकता है।

इसके तहत पहाड़ में उद्योग लगाने के लिए भूमिधर स्वयं भूमि बेचे या उससे कोई भूमि खरीदेगा तो भूमि को अकृषि कराने के लिए अलग से कोई प्रक्रिया नहीं अपनानी होगी। औद्योगिक प्रायोजन से भूमि खरीदने पर भूमि का स्वत: भू उपयोग बदल जाएगा। अधिनियम की धारा 154 (4) (3) (क) की उपधारा (2) जोड़ी गई। इसके तहत 12.5 एकड़ भूमि की बाध्यता और किसान होने की अनिवार्यता भी खत्म कर दी गई है। headtopics.com

समिति की सात दिसंबर को बैठक बुलाई है। जिन्होंने अपने सुझावों के साथ अपना पक्ष रखने को कहा है, उनकी सुनवाई भी की जाएगी। हमने आपत्ति और सुझाव मांगे थे, जो हमें प्राप्त हो चुके हैं। आपत्तियां सुनने के बाद हम रिपोर्ट फाइनल कर देंगे।- सुभाष कुमार, अध्यक्ष, भू कानून अध्ययन समिति

मुख्यमंत्री भू कानून के मामले में गंभीर हैं। जिस तरह देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम पर उन्होंने जनभावना के अनुरूप निर्णय लिया, उसी तरह भू कानून के मामले में भी निर्णय लेंगे।- अजेंद्र अजय, सदस्य, भू कानून अध्ययन समितिविज्ञापनआपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

कोरोना की पाबंदियों के बीच होंगे चुनाव, किस पार्टी को मिलेगी जीत? देखें शखंनाद

चुनावी शंखनाद शुरू हो चुका है. चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में चुनाव का ऐलान कर दिया है. नेताओं ने कमर कस ली है. वहीं कई पाबंदियां लागू हो चुकी हैं. सबके अपने दावे हैं, सबके अपने वादे हैं. इस बार मतदाताओं की संख्या बढ़ी है. ऐसे में कोरोना और मतदाताओं की संख्या को देखते हुए चुनाव आयोग ने पूरा प्लान तैयार किया है. चुनाव आयोग की तारीखों के ऐलान के बाद देश के सबसे बड़े सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ की प्रतिक्रया भी सामने आई है. देखें कैसे तारीखों के ऐलान के बाद शुरू हुआ बयानों का दौर.

चीन के खिलाफ क्यों सड़क पर उतरे पाकिस्तानी? सवाल पर भड़का चीनी विदेश मंत्रालयचीन के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट यानी चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) को लेकर लगातार विवाद सामने आते रहे हैं. चीन के विदेश मंत्रालय ने हाल ही में इस प्रोजेक्ट से जुड़ी एक घटना को पूरी तरह से खारिज किया है. चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन का कहना है कि इस प्रोजेक्ट को लेकर मीडिया का एक धड़ा फेक न्यूज फैला रहा है जिसे चीन दृढ़ता से खारिज करता है. JusticeForRailwayStudents JusticeForRailwayStudents JusticeForRailwayStudents JusticeForRailwayStudent JusticeForRailwayStudent railway_exam_calander railway_hay_hay

Bigg Boss 15: आपस में भिड़े उमर रियाज और रश्मि देसाई के फैंस, अभिनेत्री पर गलत तरह से छूने का लगाया इल्जामBigg Boss 15: आपस में भिड़े उमर रियाज और रश्मि देसाई के फैंस, अभिनेत्री पर गलत तरह से छूने का लगाया इल्जाम TheRashamiDesai umarRiaz BiggBoss15

यूपी चुनाव से पहले केशव प्रसाद मौर्य के मथुरा पर ट्वीट ने बढ़ाया राजनीतिक ताप, जानिए इसके राजनीतिक मायनेUP Assembly Election 2022 उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के ट्वीट में ...अब मथुरा की तैयारी के यही अर्थ निकाले जा रहे हैं कि अयोध्या के ढांचा विध्वंस की बरसी (छह दिसंबर) के ऐन पहले श्रीकृष्ण जन्मस्थान मुद्दे को धार देने के प्रयास शुरू हो चुके हैं।

कर्मचारी बाहर धूप सेंकते रहे, फाइल लेकर भाग निकली बकरी, सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा VIDEOबकरी का ये वीडियो कानपुर के ब्लॉक ऑफिस का है। बकरी अंदर घुसी और वहां रखी फाइल को अपने मुंह में दबाकर आराम से निकल गई।

कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज लगवाने पर मुफ्त मिलेगा 60,000 रुपए का स्मार्टफोन, जानिए क्या है स्कीमअहमदाबाद। अहमदाबाद नगर निगम लोगों को कोविड-19 के खिलाफ पूर्ण टीकाकरण के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए एक लकी ड्रॉ योजना लेकर आया है। इसमें घोषणा की गई है कि दूसरी खुराक ले चुके लोग इस योजना के पात्र होंगे और विजेता को 60,000 रुपए का स्मार्टफोन दिया जाएगा।

'इन बैठकों से कुछ नहीं होने वाला' : ममता बनर्जी की मुंबई में एनसीपी, शिवसेना नेताओं से भेंट पर बीजेपी का तंज..बीजेपी के दिलीप घोष ने कहा, मुझे नहीं लगता कि इन बैठकों से कुछ होने वाला है. ममता बनर्जी किसी तरह शिवसेना का समर्थन करेंगी. उनके पास वहां क्‍या है. उनके बीच 3000  किमी की दूरी है. यह केवल एक शो है. फिर बौखलाहट ?