अफ़ग़ानिस्तान के लिए राष्ट्रपति बाइडन ने की अहम घोषणा - BBC Hindi

दिल्ली की मेट्रो और बसों में सीमित सवारी का नियम ख़त्म, सिनेमा हॉल भी खुलेंगे

24-07-2021 16:35:00

दिल्ली की मेट्रो और बसों में सीमित सवारी का नियम ख़त्म, सिनेमा हॉल भी खुलेंगे

अमेरिकी सैनिक भले अफ़ग़ानिस्तान छोड़कर जा रहे हैं लेकिन अमेरिका ने इस मुल्क से अपनी दिलचस्पी ख़त्म नहीं की है.

5:27चीन ने अमेरिकी वाणिज्य मंत्री पर लगाई पाबंदी, फिर बढ़ा दोनों देशों में तनावDrew Angerer/Getty Imagesवाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन साकीImage caption: वाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन साकीचीन ने अमेरिकी वाणिज्य मंत्री विल्बर रोस समेत कई अमेरिकी नागरिकों पर पाबंदी लगा दी है.

संयुक्त राष्ट्र में बोले बाइडन- एक और शीत युद्ध नहीं चाहते, अपनी नाकामी का नतीजा भुगत चुके - BBC Hindi PBKS vs RR IPL 2021: राजस्थान ने पंजाब के खिलाफ दर्ज की रोमांचक जीत, 2 रन से जीता मुकाबला योगी आदित्यनाथ ने कहा- यूपी में 'गौमाता को छेड़ने वाला' सुरक्षित महसूस नहीं करेगा - BBC Hindi

चीन ने यह फ़ैसला अमेरिका के उस कदम के जवाब में उठाया है जिसके तहत अमेरिका ने हॉन्ग कॉन्ग में चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिया था.चीन का यह ऐलान उसी दिन सामने आया है जिस दिन अमेरिका की उप विदेश मंत्री वेंडी शर्मन चीन दौरे पर जाने वाली हैं.बाइडन प्रशासन ने चीन के इस फ़ैसले को ‘निरर्थक’ और ‘निराशावादी’ क़रार दिया है.

अमेरिकी ने हॉन्ग कॉन्ग में चीनी अधिकारियों पर पाबंदी उस इलाके में हुई कार्रवाइयों में उनकी कथित भूमिका को लेकर लगाई थी.अमेरिका ने हॉन्ग कॉन्ग में कारोबार करने वाले अपने नागरिकों को भी वहाँ मौजूद ख़तरों को लेकर चेताया था.ISAAC LAWRENCE/AFP via Getty Images headtopics.com

Copyright: ISAAC LAWRENCE/AFP via Getty Imagesहॉन्ग कॉन्ग में हुए प्रदर्शनImage caption: हॉन्ग कॉन्ग में हुए प्रदर्शनइससे पहले क्या-क्या हुआ था?हॉन्ग कॉन्ग में पिछले साल बड़े पैमाने पर लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शन हुए थे जिसके बाद चीन ने वहाँ राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून लागू कर दिया था.

इस क़ानून में हड़ताल, विरोध प्रदर्शन और विदेशी ताकतों से मेलजोल को अपराध माना गया है और इनके लिए किसी को उम्रक़ैद तक की सज़ा हो सकती है.अपनी हालिया पाबंदियों का ऐलान करते हुए चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा कि अमेरिकी प्रतिबंध ‘हॉन्ग कॉन्ग में कारोबार के माहौल को बेबुनियाद तरीके से बदनाम करने के लिए’ लगाए हैं और ये ‘अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों के बुनियादी सिद्धांतों का उल्लंघन करते है.’

चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा कि जवाबी कार्रवाई के तौर पर वो अमेरिकी वाणिज्य मंत्री विल्बर रोस समेत अमेरिका के सात नागरिकों और संगठनों पर प्रतिबंध लगा रहा है.डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन में विल्बर रोस ने उन चीनी कंपनियों की संख्या बढ़ा दी थी जो पहले लाइसेंस लिए बिना अमेरिकी कंपनियों के साथ कारोबार नहीं सकतीं. इनमें चीन की नामी कंपनी ख़्वावे भी शामिल थी.

Reutersअमेरिका वाणिज्य मंत्री विल्बर रोसImage caption: अमेरिका वाणिज्य मंत्री विल्बर रोसट्रंप प्रशासन में और बिगड़ गए थे रिश्तेव्हाइट हाउस की प्रेस सेक्रेटरी जेन साकी ने पत्रकारों से कहा कि अमेरिका चीन के इन प्रतिबंधों के बाद भी ‘अडिग’ है.साकी ने कहा, “ये पाबंदियाँ ताज़ा उदाहरण हैं कि चीन कैसे राजनीतिक संदेश भेजने के लिए लोगों, कंपनियों और सिविल सोसायटी संस्थानों को सज़ा देता है.” headtopics.com

IPL-14 Match 32 RR vs PBKS: कार्तिक त्यागी ने पलटा मैच, राजस्थान की पंजाब पर रोमांचक जीत 120 Kmph टॉप स्पीड वाली पहली Made in India हाइब्रिड फ्लाइंग कार का मॉडल तैयार IT सर्च ऑपरेशन के बाद बोले सोनू सूद- कानून का उल्लंघन नहीं किया

चीन और अमेरिका के रिश्ते पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के शासन काल से और ज़्यादा बिगड़ने लगे थे.इसके बाद से अब तक दोनों देशों के सम्बन्ध कोरोना वायरस के स्रोत, मानवाधिकार और साइबर सुरक्षा जैसे मुद्दों को लेकर तनावपूर्ण ही बने हुए हैं.इन सबके बीच अमेरिका की उप विदेश मंत्री वेंडी शर्मन चीन जाने वाली हैं.

और पढो: BBC News Hindi »

क्या 2022 की तैयारी में हुई विजय रुपाणी की विदाई? देखें शंखनाद

गुजरात में विजय रूपाणी का हटाने का दांव बीजेपी ने खेला है. इसकी एक बड़ी वजह जातीय समीकरण भी है. गुजरात में पाटीदार नेताओं का बोलबाला रहा है और रूपाणी इस समाज से नहीं आते, जिसका असर पिछले चुनाव में भी दिखा था. 2012 के चुनाव में जहां बीजेपी ने 115 सीटे मोदी के नेतृत्व में हासिल की थी. वहीं 2017 में आंकड़ा 100 के नीचे पहुंच गया था. जिसके बाद रूपाणी के सीएम ना बनने की अटकलें तेज हो गई थीं. क्या विजय रूपाणी को पद से हटाना एंटी इंकम्बेंसी कम करने की कोशिश है या ये गुजरात की वही सियासी परंपरा है, जिसके तहत अब तक नरेंद्र मोदी को छोड़कर बीजेपी का कोई भी सीएम पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाया है. देखें शंखनाद.

नीतीश सरकार की सौगात..! बिहार में बनेंगे नॉट इन मेरिट वाले टीचर ..! 🤣🤣🤣 NitishKumar sanjayjavin VijayKChy stet2019_विज्ञप्ति_आधार_पर_नियुक्ति_दो STET2019_विज्ञप्ति_आधार_पर_नियुक्ति_दो Time Over !!!

यूरोपीय संघ ने पत्रकारों पर रूस की कार्रवाई की आलोचना की | DW | 23.07.2021यूरोपीय संघ के विदेश मामलों के प्रतिनिधि योसेप बोरेल की प्रवक्ता नबीला मसराली के मुताबिक, 'यूरोपीय संघ रूसी नागरिक समाज, मानवाधिकार रक्षकों और स्वतंत्र पत्रकारों के साथ खड़ा है और उनके महत्वपूर्ण कार्यों में उनका समर्थन करना जारी रखेगा.'

झारखंड: निजी स्कूल एसोसिएशन ने CM सोरेन से की राज्य के 45000 स्कूल खोलने की अपीलएसोसिएशन की ओर से आलोक दुबे ने कहा, बिहार समेत कई राज्य सरकारें स्कूल खोलने की दिशा में कदम उठा रही हैं. ऐसे में एसओपी तैयार कर स्कूल खोले जाएं. उन्होंने कहा, सरकार तय करे कि 30% बच्चे बुलाने हैं या फिर 50% या उससे कम.

शबनम की फांसी पर विचार की मांग: क्षमा याचना की चिट्ठी राज्यपाल ने योगी सरकार के पास भेजी, वकील की दलील- सूली पर लटकाया तो दुनिया में खराब होगी भारत की छविदेश की पहली महिला को फांसी देने के मामले में एक नया मोड़ आ गया है। इलाहाबाद हाईकोर्ट की वकील सहर नक़वी ने इस मामले में एक पत्र प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को लिखा था। राज्यपाल ने पत्र का संज्ञान लेते हुए पूरे मामले पर निर्णय लेने के लिए कारागार विभाग को निर्देश दिए हैं। | Governor sent a letter of apology to the UP government, may consider reducing the death sentence; Vakin's argument - If hanged on the cross, the image of Indian women in the world will be spoiled;क्षमा याचना की चिट्ठी राज्यपाल ने यूपी सरकार को भेजी, फांसी की सजा कम करने पर हो सकता है विचार; वकीन की दलील- सूली पर लटकाया तो दुनिया में भारतीय महिलाओं की छवि होगी खराब CMOfficeUP fasi honi chaiye CMOfficeUP But she is women CMOfficeUP और अगर भविष्य में फिर किसी महिला ने ऐसी घिनौनी हरकत को दोहरा दिया तो इसका जिम्मेदार किसको ठहराया जाएगा इस हत्यारन ने अपने पुरे परिवार को बेरहमी से मार डाला,,उस वक्त क्या भारत की छवि को इसने चार चांद लगा दिएथे एक हत्यारन को बचाने के लिए भारत की छवि बिगड़ने की बात करना ठीक नहीं

अफगानिस्तान में कदम-कदम पर खतरा, 'लाइफ लाइन' पर कब्जे की कोशिश में तालिबानतालिबान (Taliban) जानता है कि अगर उसे अफगानिस्तान (Afghanistan) पर कब्जा करना है तो अफगानिस्तान के हाईवे (HighWays) पर कब्जा करना होगा और अफगान फोर्सेज किसी भी कीमत पर ऐसा होने नहीं देना चाहतीं.

अपनी सेना के सरेंडर की फोटो देख अफगानिस्तान पर भड़का पाकिस्तानअफगानिस्तान के पहले उप राष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह के तंज पर पाकिस्तान तमतमा गया है. पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डॉ. मोईद यूसुफ ने गुरुवार को कहा कि इस्लामाबाद अफगान शांति के लिए प्रतिबद्ध है और अफगानिस्तान में कुछ खेल बिगाड़ने वालों का मूर्खतापूर्ण बयान युद्धग्रस्त राष्ट्र की शांति और स्थिरता के लिए उसके समर्थन को प्रभावित नहीं करेगा.

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान की जीत के पीछे जंग से ज़्यादा राजनीति, बोले अफ़ग़ान सलाहकार - BBC Hindiअफ़ग़ानिस्तान सरकार के एक बड़े सलाहकार ने कहा है हाल के समय में तालिबान की लगातार जीत की वजह लड़ाई नहीं बल्कि राजनीति है. 👍 तो जाओ UNO पाक पर लगवाओ परतिबनध!