Afghanistan, Indiaıranrelation, Iran, Afganistaan News, Taliban Terrirest, India And Iran Relation, Chabahar Port, S Jaishankar, Jawad Zarif, Antony Blaken, Ibrahim Raisi

Afghanistan, Indiaıranrelation

अफगानिस्‍तान के बदले हालात से भारत - ईरान का बढ़ा संपर्क, क्रूड आयल खरीदने की इजाजत देने पर भी हो रहा विचार

अफगानिस्‍तान के बदले हालात से भारत - ईरान का बढ़ा संपर्क, क्रूड आयल खरीदने की इजाजत देने पर भी हो रहा विचार #Afghanistan #IndiaIranRelation #Iran

21-07-2021 19:58:00

अफगानिस्‍तान के बदले हालात से भारत - ईरान का बढ़ा संपर्क, क्रूड आयल खरीदने की इजाजत देने पर भी हो रहा विचार Afghanistan IndiaIranRelation Iran

अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद बदले हालात और अपने रणनीतिक हितों पर संभावित खतरे को देखते हुए भारत ने ईरान के साथ संबंधों को लेकर साफ संकेत दे दिया है। विदेश मंत्री जयशंकर ने बुधवार को अपने ईरानी समकक्ष जवाद जरीफ से टेलीफोन पर लंबी बातचीत की।

अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद बदले हालात और अपने रणनीतिक हितों पर संभावित खतरे को देखते हुए भारत ने ईरान के साथ संबंधों को लेकर साफ संकेत दे दिया है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने बुधवार को अपने ईरानी समकक्ष जवाद जरीफ से टेलीफोन पर लंबी बातचीत की। बातचीत मुख्य तौर पर अफगानिस्तान के हालात और द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूत बनाने पर केंद्रित रही। दोनों नेताओं के बीच पिछले एक पखवाड़े में यह दूसरी वार्ता है। इससे भी महत्वपूर्ण बात कि अगले हफ्ते जब अमेरिकी विदेश मंत्री एंटोनी ब्लकेन भारत आने वाले हैं, यह बातचीत तब हुई है।

मौलाना कलीम सिद्दीक़ी कौन हैं जिन्हें यूपी एटीएस ने गिरफ़्तार किया है - BBC News हिंदी योगी सरकार का विस्तार: जितिन प्रसाद और छह राज्य मंत्रियों को मिली जगह - BBC Hindi न्यायापालिका में महिलाओं को हक से मांगना चाहिए आरक्षण: सीजेआई रमन्ना - BBC Hindi

अफगानिस्तान के हालात देख दोनों देशों में बढ़ा संपर्कसंकेत साफ है कि अमेरिकी प्रतिबंधों की वजह से ईरान के साथ पिछले तीन वर्षों से अपने रिश्तों को लेकर उदासीन रहे भारत का रवैया बदलेगा। जानकार बताते हैं कि केंद्र सरकार अपनी तेल कंपनियों को ईरान से क्रूड आयल खरीदने की इजाजत देने पर भी विचार कर रही है। अफगानिस्तान में तालिबान के तेज होते हमलों को देखते हुए ईरान की भूमिका मौजूदा परिवेश में अहम हो गई है। ईरान लगातार तालिबान के एक बड़े धड़े के साथ ना सिर्फ संपर्क में है, बल्कि अपने स्तर पर अफगान सरकार और तालिबान के बीच शांति बैठकें भी करवा रहा है।

यह भी पढ़ेंतालिबान से भारत और ईरान दोनों परेशानसबसे अहम बात यह है कि पाकिस्तान पोषित तालिबानी आतंक का भारत व ईरान विरोध करते रहे हैं। जिस तरह भारत को डर है कि तालिबान का शासन कश्मीर में समस्या पैदा कर सकता है, उसी तरह का डर ईरान को भी है। पाकिस्तान पोषित तालिबानी आतंकियों ने पहले भी ईरान को परेशान किया है। ईरान भी भारत की अहमियत समझ रहा है। विदेश मंत्री जयशंकर दो हफ्ते पहले रूस की यात्रा के बीच में ईरान पहुंचे थे और वहां के नवनियुक्त राष्ट्रपति इब्राहिम राइसी से मुलाकात की थी। राइसी की किसी भी दूसरे देश के विदेश मंत्री से यह पहली मुलाकात थी। headtopics.com

जयशंकर ने ईरान के विदेश मंत्री जरीफ से की बातजानकारों के मुताबिक तेहरान में विदेश मंत्री जरीफ के साथ बैठक में जयशंकर ने भारत की तरफ से ईरान में बनाए जा रहे चाबहार पोर्ट को लेकर पूरा समर्थन जताया था। तालिबान के सत्ता में आने की आशंका के मद्देनजर जानकार बताते हैं कि इससे भारत की चाबहार परियोजना की प्रगति प्रभावित हो सकती है। भारत इस पोर्ट को अफगानिस्तान के अंदरुनी हिस्से से रेल और सड़क मार्ग से जोड़ने पर काम कर रहा है। साथ ही भारत की योजना यहां एक विशेष आर्थिक क्षेत्र स्थापित करने की भी है। अफगानिस्तान की अस्थिरता इन निवेश योजनाओं पर असर डाल सकती है, जिसकी चिंता ईरान को भी है।

यह भी पढ़ेंद्विपक्षीय रिश्तों को नए सिरे से पटरी पर लाना अहमईरान को लेकर अमेरिका के रवैये में नरमी आई है, लेकिन भारत के लिए फिलहाल अपने इस एतिहासिक मित्र देश के साथ द्विपक्षीय रिश्तों को नए सिरे से पटरी पर लाना अहम है। जानकारों का कहना है कि पहले ईरान के नए राष्ट्रपति से मुलाकात और अब विदेश मंत्री जरीफ से बातचीत कर भारत ने अपना मत स्पष्ट कर दिया है। देखना होगा कि ईरान से क्रूड आयल (कच्चा तेल) खरीद पर भारत कब फैसला करता है।

यह भी पढ़ेंवर्ष 2018-19 तक भारत ईरान से क्रूड आयल खरीदने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश रहा है। उसके बाद अमेरिका के नेतृत्व में लगे अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों की वजह से भारतीय तेल कंपनियों ने ईरान से तेल खरीदना बंद कर दिया है। यह न सिर्फ ईरान के लिए बड़ा आर्थिक झटका है, बल्कि भारत के लिए भी आर्थिक दबाव वाला फैसला है क्योंकि ईरान हमेशा काफी सहूलियत वाली शर्तों पर भारत को क्रूड आयल बेचता रहा है।

और पढो: Dainik jagran »

अमेठी में स्मृति ने पकौड़ी संग चाय पर की चर्चा: दुकानदार से पूछा- क्या हाल है, बोला- बेटे के दिल में छेद है, बोलीं- दिल्ली लेकर आइए, इलाज की चिंता मत करिए

स्मृति ईरानी अमेठी में हैं। केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। वहां उन्होंने पकौड़ी खाई और चाय पी। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान हैं। उनके बच्चे के दिल में छेद है, जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है। | Discussion on Smriti Irani's tea in Amethi, After drinking tea at the shop, ate dumplings, asked - how are you; After hearing the problem of Ram Naresh called to Delhi, amethi news, political news, यूपी चुनाव से पहले गांधी परिवार अमेठी से दूर है, इसका फायदा स्मृति ईरानी बखूबी उठा रही हैं। बुधवार की रात अमेठी पहुंची केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। यहां उन्होंने चाय पीकर और पकौड़ी खाकर चर्चा की। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान है। उसने बताया कि उसके बच्चे के दिल में छेद है। जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है।

पहले तो आती ही थी क्रूड आयल, बंद क्यों कर दिया गया मुल्क के मालिकों..? अमरीकी सर्वोच्यता के सामने इतने नतमस्तक हो गयें की राष्ट्रीय हितों को भी भुला दिया गया ।।। शुक्रिया

अफ़ग़ानिस्तान की ओर से आई इस तस्वीर पर भड़क गए पाकिस्तानी - BBC News हिंदीअफ़ग़ानिस्तान के पहले उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने पाकिस्तान से जंग में भारत की जीत की एक ऐतिहासिक तस्वीर पोस्ट की है. Bechara Pakistan 🤣🤣🤣 माहौल बिगाड़ने और उत्तेजना फैलाना किसी अच्छी नीयत से तो नहीं किया गया.. पडोसी का घर आग खुद के सेहत के लिए भी खतरनाक हैं अफगानिस्तान को बड़े समस्या की गंभीरता से लेने की जगह खतरनाक साजिशों को अंजाम की कवायदें नजर आती है आज भी हम समझे,अगर अफगानिस्तान बचेगा तो हम बचेगें।हमे अफगानिस्तान की मौजूदा सरकार को समर्थन और आवश्यक सहयोग देना चाहिए।अफगानिस्तान से रूस और अमेरिका भले ही थक-हार कर चले गयें हो लेकिन हम वहाँ जरूर सफल होंगे,क्योंकि वहाँ की जनता हमारे साथ है।जयहिंद।

बिना जंग लड़े अफगानिस्तान जीतने की तैयारी में तालिबान, आतंकियों के प्लान से अमेरिका भी हैरानतालिबान दिन-प्रतिदिन अफगानिस्तान के नए-नए बॉर्डर पोस्ट पर कब्जा जमाकर अफगान सेना को पीछे ढकेलता जा रहा है। विशेषज्ञों ने भी चेतावनी दी है कि अफगानिस्तान की अशरफ गनी सरकार ज्यादा दिनों तक सत्ता पर काबिज नहीं रहने वाली है। सीमा से होने वाले व्यापार के जरिए तालिबान अपनी आमदनी में भी इजाफा करने की तैयारी कर रहा है। सोशल मीडिया के मेरे फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पेज को लाइक और फॉलो करे फेसबुक - इंस्टाग्राम - ट्विटर - व्हाट्सएप्प - समीर श्रीवास्तव दमाग है तालिबान पास और सपोर्ट है पाक चीन दमाग का !

सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं पर कम ख़र्च और निजी क्षेत्र पर ज़्यादा ध्यान देने से बढ़ी असमानताऑक्सफैम की हालिया 'इनइक्वैलिटी रिपोर्ट 2021 इंडियाज इनइक्वल हेल्थकेयर स्टोरी' आने के बाद इसके सीईओ ने कहा कि भारत में सार्वजनिक सेवाओं की तुलना में निजी क्षेत्र को अधिक सहयोग देने से वंचितों को नुकसान पहुंचा है. 2004 से 2017 के बीच अस्पताल में भर्ती होने के मामले में औसत ख़र्च तीन गुना बढ़ा है, जिससे ग़रीबों और ग्रामीणों की मुश्किलें बढ़ी हैं. नेता जी की ऐसी गुंडागर्दी आपने पहले कभी नहीं देखी होगी पुलिस भी बनी मूक दर्शक नारा था अपराध मुक्त प्रदेश का। पूरा देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें।

Kisan Andolan: गाजीपुर बॉर्डर पर किसान प्रदर्शनकारियों से मिलेंगे हरियाणा के पूर्व सीएम ओम प्रकाश चौटालाKisan Andolan इनेलो प्रमुख और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला पहुंच रहे हैं। वह अटेहा मोड़ स्थित धरने पर बैठे किसानों संबोधित करेंगे। इसके अलावा वह दिल्ली-यूपी के गाजीपुर बॉर्डर पर बैठे किसानों से भी मिलेंगे। महा भ्रष्टाचारी कहीं का - अब प्रदर्शनकारियों को भी भ्रष्ट बना देगा

IND vs SL: चाहर के आलराउंड प्रदर्शन से भारत ने वन-डे सीरीज पर किया कब्जादीपक चाहर ने दो विकेट चटकाने बाद बाद करियर का पहला अर्धशतक जड़ा और भुवनेश्वर कुमार के साथ आठवें विकेट की अटूट अर्धशतकीय Amar Ujala सोशल मीडिया के मेरे फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पेज को लाइक और फॉलो करे फेसबुक - इंस्टाग्राम - ट्विटर - व्हाट्सएप्प - समीर श्रीवास्तव जब चीन की करोगे दलाली , तो जरूरी है जासूसी तुम्हारी। पाक परस्ती तुम्हारी मजबूरी है। गद्दारो की जासूसी जरूरी है।

जावेद जाफरी से रिश्ते पर बोले मिजान, असल जिंदगी में डीडीएलजी के अमरीश पुरी हैं पापाजावेद जाफरी के बेटे मिजान जाफरी अपनी दूसरी फिल्म हंगामा 2 को लेकर खासे उत्साहित हैं. स्टारकिड्स होने के बावजूद मिजान को प्रफेशनल फ्रंट पर पापा से को मदद नहीं मिली है. पापा संग अपने रिलेशनश पर मिजान खुलकर बातचीत करते हैं.