अनूठा अध्ययन : हवा और पानी में बढ़ा प्रदूषण तो ज्यादा पैदा हुए लड़के, यहां जानिए आखिर कैसे निकला यह निष्कर्ष

अमेरिका और स्वीडन में 1983 से 2013 के बीच जन्मे करीब 60 लाख बच्चों और वहां हालात के अध्ययन के आधार पर एक नए शोध ने दावा किया है

Study, Air

04-12-2021 04:30:00

अनूठा अध्ययन : हवा और पानी में बढ़ा प्रदूषण तो ज्यादा पैदा हुए लड़के, यहां जानिए आखिर कैसे निकला यह निष्कर्ष Study Air Air Pollution Pollution Birth BabbyBoy NewBorn Research

अमेरिका और स्वीडन में 1983 से 2013 के बीच जन्मे करीब 60 लाख बच्चों और वहां हालात के अध्ययन के आधार पर एक नए शोध ने दावा किया है

हवा और पानी में बढ़ा प्रदूषण, तो ज्यादा पैदा हुए लड़केशोधकर्ता के अनुसार, वास्तविक स्थिति समझने के लिए मानव कोशिकाओं पर प्रदूषण तत्वों के असर और इनकी जन्म के समय लिंगानुपात में भूमिका के अध्ययन की जरूरत होगी। यह अध्ययन शिकागो विश्वविद्यालय के आंद्रे जेटेस्की ने किया। इसे पीएलओएस कंप्यूटेशनल बायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित किया गया है।

कोरोना संक्रमण: भारत में एक दिन में तीन लाख से अधिक नए मामले - BBC Hindi

प्राकृतिक रूप से ऐसा होता हैसदियों से लड़का या लड़की के जन्म को लेकर कई प्रकार के विचार रखे जाते हैं। लेकिन बायोलॉजी के स्तर पर जन्म के समय लिंग निर्धारित करने में पुरुष के क्रोमोसोम, गर्भावस्था में नर या मादा भ्रूण को टर्मिनेट करने वाली हार्मोनल वजहों की भूमिका होती है। कुछ अध्ययनों ने पहले भी प्रदूषण, मौसम, व्यक्ति के मानसिक तनाव के स्तर आदि को भी इससे जोड़ा है।

ऐसे जुटाए आंकड़ेआंद्रे ने अमेरिका में 2003 से 2011 के बीच जन्मे 30 लाख बच्चों के लिए हुए आईबीएम हेल्थ मार्केट स्कैन इंश्योरेंस के दावों और स्वीडन नेशनल पेशेंट रजिस्ट्री में 1983 से 2011 तक दर्ज 30 लाख बच्चों के जन्म के आंकड़ों का विश्लेषण किया। साथ ही इसी अवधि के संबंधित देशों के मौसम, प्रदूषण आदि के आंकड़े भी जुटाए। उन्होंने उम्मीद जताई की यह अध्ययन प्रदूषण को घटाने में प्रोत्साहित करेगा, क्योंकि इससे लिंगानुपात बिगड़ने की भी आशंका है। headtopics.com

औद्योगिक हालात से भी असरआंद्रे ने बताया, हवा के प्रदूषण में पॉलीक्लोरिनेटेड बिफेनाइल्स, आयरन, लेड, मरकरी, कार्बन मोनोऑक्साइड ने प्रमुख भूमिका निभाई।पानी में क्रोमियम व आर्सेनिक प्रदूषण प्रभाव डालने वाला पाया गया।इसके अलावा सूखा, सड़क हादसों में मौतें, औद्योगिक हालात, क्षेत्र में भीड़ कारण भी बेहद सूक्ष्म स्तर पर प्रभाव डालते नजर आए।

ICC टी-20 टीम में छाया पाकिस्तान, बाबर बने कप्तान - BBC Hindi

मौसम, वातावरण के तापमान, हिंसक माहौल, क्षेत्रीय अपराध दर, बेरोजगारी और यात्राओं आदि का असर लिंगानुपात पर नहीं हुआ।अमेरिका में चक्रवाती तूफान कटरीना से क्षेत्रीय जन्म लिंगानुपात पर कोई असर नहीं दिखा, लेकिन वर्जीनिया टेक शूटिंग से लड़कों के जन्म में बेहद हल्की वृद्धि नजर आई।

विस्तार कि हवा और पानी में प्रदूषण बढ़ने पर ज्यादा लड़के पैदा हुए। हालांकि, शोधकर्ता ने सफाई दी है कि उसने लड़के या लड़की के जन्म के पीछे प्रदूषणकारी तत्व वास्तव में क्या असर डालते हैं, इसके बारे में पता नहीं लगाया है। यह केवल जन्म के आंकड़ों, वातावरण व हालात के आधार पर दिया गया निष्कर्ष है।

विज्ञापनहवा और पानी में बढ़ा प्रदूषण, तो ज्यादा पैदा हुए लड़केशोधकर्ता के अनुसार, वास्तविक स्थिति समझने के लिए मानव कोशिकाओं पर प्रदूषण तत्वों के असर और इनकी जन्म के समय लिंगानुपात में भूमिका के अध्ययन की जरूरत होगी। यह अध्ययन शिकागो विश्वविद्यालय के आंद्रे जेटेस्की ने किया। इसे पीएलओएस कंप्यूटेशनल बायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित किया गया है। headtopics.com

अमित पालेकरः ईमानदार चेहरा या केजरीवाल ने गोवा में साधे जातिगत समीकरण - BBC News हिंदी

प्राकृतिक रूप से ऐसा होता हैसदियों से लड़का या लड़की के जन्म को लेकर कई प्रकार के विचार रखे जाते हैं। लेकिन बायोलॉजी के स्तर पर जन्म के समय लिंग निर्धारित करने में पुरुष के क्रोमोसोम, गर्भावस्था में नर या मादा भ्रूण को टर्मिनेट करने वाली हार्मोनल वजहों की भूमिका होती है। कुछ अध्ययनों ने पहले भी प्रदूषण, मौसम, व्यक्ति के मानसिक तनाव के स्तर आदि को भी इससे जोड़ा है।

ऐसे जुटाए आंकड़ेआंद्रे ने अमेरिका में 2003 से 2011 के बीच जन्मे 30 लाख बच्चों के लिए हुए आईबीएम हेल्थ मार्केट स्कैन इंश्योरेंस के दावों और स्वीडन नेशनल पेशेंट रजिस्ट्री में 1983 से 2011 तक दर्ज 30 लाख बच्चों के जन्म के आंकड़ों का विश्लेषण किया। साथ ही इसी अवधि के संबंधित देशों के मौसम, प्रदूषण आदि के आंकड़े भी जुटाए। उन्होंने उम्मीद जताई की यह अध्ययन प्रदूषण को घटाने में प्रोत्साहित करेगा, क्योंकि इससे लिंगानुपात बिगड़ने की भी आशंका है।

औद्योगिक हालात से भी असरआंद्रे ने बताया, हवा के प्रदूषण में पॉलीक्लोरिनेटेड बिफेनाइल्स, आयरन, लेड, मरकरी, कार्बन मोनोऑक्साइड ने प्रमुख भूमिका निभाई।पानी में क्रोमियम व आर्सेनिक प्रदूषण प्रभाव डालने वाला पाया गया।इसके अलावा सूखा, सड़क हादसों में मौतें, औद्योगिक हालात, क्षेत्र में भीड़ कारण भी बेहद सूक्ष्म स्तर पर प्रभाव डालते नजर आए।

मौसम, वातावरण के तापमान, हिंसक माहौल, क्षेत्रीय अपराध दर, बेरोजगारी और यात्राओं आदि का असर लिंगानुपात पर नहीं हुआ।अमेरिका में चक्रवाती तूफान कटरीना से क्षेत्रीय जन्म लिंगानुपात पर कोई असर नहीं दिखा, लेकिन वर्जीनिया टेक शूटिंग से लड़कों के जन्म में बेहद हल्की वृद्धि नजर आई। headtopics.com

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

कटरीना के लौटते ही इंदौर में फ्रंट फुट पर विक्की!: प्रोडक्शन टीम के साथ इंदौर के छावनी मैदान में खेला क्रिकेट, लगाए चौके-छक्के

इंदौर में फिल्म लुकाछुपी-2 की शूटिंग कर रहे एक्टर विक्की कौशल ने छावनी इलाके में क्रिकेट मैच खेला। मंगलवार को नसिया इलाके में शूटिंग हुई। यहां क्रिश्चियन कॉलेज में कुटुम्ब न्यायालय बनाकर शॉट फिल्माए गए। शूटिंग से फुर्सत मिलने पर विक्की ने मैदान में ही प्रोडक्शन टीम के साथ क्रिकेट मैच खेला। चौके-छक्के जड़े। काफी देर तक वह मैदान पर डटे रहे। | Sixes, fours hit in the cantonment ground with the production team

उत्तर भारत में बर्फबारी से दिल्ली और NCR में बढ़ेगी ठंड, पारा और गिरेगानई दिल्ली। दिल्ली और एनसीआर में अब ठंड तेजी से बढ़ेगी और न्यूनतम तापमान गिरेगा। दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे उत्तर भारत में ठंड धीरे-धीरे बढ़ रही है, वहीं पहाड़ी राज्यों में शुमार उत्तराखंड व हिमाचल प्रदेश के साथ केंद्र शासित प्रदेशों में शामिल लद्दाख और जम्मू-कश्मीर में बर्फबारी ने न्यूनतम और अधिकतम पारे में कमी लाना शुरू कर दिया है।

बीते एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के 9,216 नए मामले और 391 लोगों की मौतभारत में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 3,46,15,757 हो गई है और अब तक यह महामारी 4,70,115 लोगों की मौत का कारण बन चुकी है. विश्व में संक्रमण के 26.42 करोड़ से ज़्यादा मामले दर्ज किए गए हैं और 52.34 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई है.

समुद्र में बड़े तूफान में तब्दील हो जाएगा Cyclone Jawad, जानें- कब और कहां देगा दस्तक?आईएमडी ने बताया कि यह शुक्रवार को दोपहर तक चक्रवात में तब्दील हो गया।

एन. रघुरामन का कॉलम: ओमिक्रॉन के विरुद्ध खुद के और समाज के बचाव के लिए ‘स्लाइडिंग स्केल’ कारगर उपाय हैकोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के बारे में इस हफ्ते की शुरुआत में आई नई जानकारी से साफ हो गया कि ये देश बचाव की तैयारी करते, उससे पहले ही खतरा विकराल हो गया। अब साबित हो चुका है कि दक्षिण अफ्रीकी सरकार की चेतावनी (24 नवंबर) से पहले ओमिक्रॉन के शुरुआती मामले उससे काफी दूर न्यूजीलैंड (19 नवंबर), जापान, फ्रांस में मिले। इसने दुनिया को फिर से सामान्य होने की उम्मीद और बुरे से बुरा आने के डर के बीच बीच धके... | 'Sliding scale' is effective way to defend yourself and society against Omicron nraghuraman बढ़िया जानकारी देने के लिए धन्यवाद nraghuraman जी 🙏 nraghuraman Namaste, This is Hariom Bhadrey from your childhood hometown Nagpur. Need your mobile no. Thanks

Weather Alert: ओडिशा और आंध्र में वर्षा की संभावना, शीतलहर बढ़ेगीनई दिल्ली। मौसम विभाग ने (आईएमडी) ने कहा है कि अरब सागर और अंडमान सागर में बनने वाले कम दबाव वाले क्षेत्र के प्रभाव में 3 और 4 दिसंबर को उत्तर तटीय आंध्रप्रदेश में 3-5 दिसंबर को तटीय ओडिशा के ऊपर 4 दिसंबर को तटीय ओडिशा और उत्तरी तटीय आंध्र में अत्यधिक भारी वर्षा की संभावना है। मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ यानी वेस्टर्न डिस्टर्बेंस 4 दिसंबर तक पश्चिमी हिमालय को प्रभावित कर सकता है। वर्षा से शीतलहर बढ़ेगी।

50MP कैमरा और 120Hz डिस्प्ले के साथ Coolpad COOL 20 Pro लॉन्च, जानें कीमतCoolpad Cool 20 Pro फोन 120 हर्ट्ज़ रिफ्रेश रेट वाले डिस्प्ले से लैस है। साथ ही इसमें मीडियाटेक डायमेंसिटी 900 प्रोसेसर दिया गया है। फोन में मौजूद रैम के अलावा 5 जीबी का वर्चुअल रैम सपोर्ट भी मिलता है।