अनुपम खेर बोले- बहती लाशों का असर भला किस पर नहीं होगा - BBC Hindi

अनुपम खेर बोले- बहती लाशों का असर भला किस पर नहीं होगा

13-05-2021 04:37:00

अनुपम खेर बोले- बहती लाशों का असर भला किस पर नहीं होगा

अभिनेता अनुपम खेर अक्सर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते रहते हैं. लेकिन बुधवार को उन्होंने कहा कि महज़ अपनी छवि गढ़ने ज़्यादा ज़रूरी लोगों की ज़िंदगी है.

सारांशपीएम मोदी की प्रशंसा करने वाले अभिनेता अनुपम खेर ने बुधवार को कोविड संकट को लेकर साधा निशानाबुधवार को विपक्षी दलों ने मोदी सरकार को पत्र लिख कहा कि देश भर में बिना पैसे लिए टीकाकरण शुरू किया जाएआईसीएमआर के प्रमुख बलराम भार्गव ने कहा है कि कोरोना संक्रमण रोकने के लिए 6 से 8 हफ़्ते के लॉकडाउन की ज़रूरत है

'हमारे साथी को TMC MP ने कहा बिहारी गुंडा, माफी मांगें ममता बनर्जी', NDTV से बोले सुशील मोदी पेगासस जासूसी कांड पर संसद में बात क्यों नहीं करना चाहती सरकार : अभिषेक मनु सिंघवी राकेश अस्‍थाना की पुलिस कमिश्‍नर के तौर पर नियुक्ति के खिलाफ दिल्‍ली विधानसभा ने किया प्रस्‍ताव पारित

सुप्रीम कोर्ट में कोविड मामलों की सुनवाई कर रहे जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ख़ुद कोरोना संक्रमित हो गए हैंलाइव रिपोर्टिंगसंबंधित समाचारलाइव रिपोर्टिंगtime_stated_ukपोस्ट किया गया 1:261:26अनुपम खेर बोले- बहती लाशों का असर भला किस पर नहीं होगाGetty ImagesCopyright: Getty Images

अभिनेता अनुपम खेर अक्सर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते रहते हैं. वे बीजेपी का बचाव भी हर मोर्चे पर करते हैं. उनकी पत्नी किरण खेर चंडीगढ़ से बीजेपी की लोकसभा सांसद भी हैं.लेकिन बुधवार को अनुपम खेर ने एनडीटीवी को दिए इंटरव्यू में कहा कि कोविड संकट में सरकार 'फिसल' गई है. अनुपम ने कहा कि यह बहुत महत्वपूर्ण है कि सरकार की जवाबदेही तय हो. headtopics.com

Video contentVideo caption: कोरोना के बी-1617 वैरिएंट पर क्या बोला WHO?कोरोना के बी-1617 वैरिएंट पर क्या बोला WHO?अनुपम खेर ने कहा, ''कहीं ने कहीं ये फिसल गए हैं...शायद वो वक़्त आ गया है जब उन्हें समझना चाहिए कि महज़ अपनी छवि गढ़ने ज़्यादा ज़रूरी लोगों की ज़िंदगी है. मेरा मानना है कि कई मामलों में सरकार की आलोचना सही है. सरकार को लोगों ने ही चुना है और उसे करना होगा. मैं मानता हूं कि जो अमानवीय होगा, वही गंगा में बहती लाशों से प्रभावित नहीं होगा. लेकिन इस चीज़ का कोई दूसरी पार्टी अपने फ़ायदे के लिए इस्तेमाल करे ये भी ठीक नहीं है. हमें जनता के तौर पर ग़ुस्सा करना चाहिए ताकि जो कुछ हो रहा है, उसे लेकर सरकार ज़िम्मेदार बने.''

Getty ImagesCopyright: Getty Imagesप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मामले में अनुपम खेर के रुख़ में यह परिवर्तन चौंकाने वाला है. दो हफ़्ते पहले ही उन्होंने पीएम मोदी की आलोचना वाले ट्वीट की प्रतिक्रिया में लिखा था कि 'आएगा तो मोदी ही.' अनुपम खेर की इस टिप्पणी की ट्विटर पर काफ़ी आलोचना हुई थी.

भारत में कोरोना की दूसरी लहर जानलेवा और त्रासद साबित हुई है. भारत की स्वास्थ्य सेवा बुरी तरह से ठप हो गई है और बुनियादी ज़रूरतों के लिए भी अस्पताल जूझ रहे हैं. ऐसे में अनुपम खेर ने अन्य सिलेब्रिटिज के साथ मिलकर मदद पहुँचाने का काम शुरू किया है. अनुपम खेर ने 'हील इंडिया' कैंपेन शुरू किया है. इसके तहत वे वेंटिलेटर्स और ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर्स मुहैया करा रहे हैं.

और पढो: BBC News Hindi »

10तक: किसानों की औसत आय इंटरनेट बिल के बराबर! क्या है कृषि कानूनों का सच

लोकसभा में चुनकर आने वाले 39 सांसद अपना पेशा खेती-बाड़ी बताते हैं. संसद में 206 सांसद अपना पेशा कृषि बताते हैं. यानी लोकसभा में कुल 245 सांसदों का प्रोफेशन खेती-किसानी है. वहां किसानों के साथ ऐसा सलूक? खुद को किसान बताने वाले लोकसभा सांसदों की औसत संपत्ति जहां 18 करोड़ रुपए है. वहीं देश में किसानों की महीने की आय शहरों के कई परिवारों के महीने के मोबाइल, लैंडलाइन, इंटरनेट बिल के बराबर है यानी 30 दिन की कमाई औसत 8931 रुपए. देखें 10तक.

It's too late kher एक बात समझ नहीं आ रही हैं जानवरो में कारोना महामारी क्यो नही फेहली विज्ञानी डॉक्टर्स से निवेदन करता हूं कि जानवरो में ऐसा कोनसा ड.न. ए हैं जो कॉरॉना उनको नहीं हो रहा ? क्योंकि जानवरो को हम इंसान झूठा कहना भी देते हैं ओर उनको छूते भी हैं वो भी इंसानों के सात ही रहते हैं ? hbabbu He knows very well 'किस पर नहीं होगा एवं किस पर नही हो रहा है।' hypocritical mouthpiece.

अभी आंख खुली है 🙏😭😭🙏 नदी से लाशें आ रही है उम्मीद दोषी नेहरू होगा पर आएगा मोदी 🤔 एक एक कर के धीरे धीरे ही सही सभी अंधभक्तों को अहसास तो होगा की सरकार की आलोचना करना जरुरी है वरना वोह कुम्भकरण वाली निद्रा से जगी नहीं होगी AnupamPKher बहती लाशों की सच्चाई जानिए और थूकिए अपनी पत्रकारिता पर क्योंकि आप पता नहीं लगा पाए क्या सच है और क्या झूंठ, या आप पता लगाना नहीं चाहते, भारत को बदनाम जो करना है

अपने साहब से पूछ ले तनिक भी दया आ रही है नोटबन्दी के समय गंगा में बहते हुए नोटों का श्रेय तो ले लिया, अब गंगा मे बहती हुई लाशों का श्रेय भी ले लीजिए। मोदी ने गांव गांव क्या योजना दी महामारी पर जनता क्या करे राज्य हैल्थ केयर को भी झुकवा दिया नगरनगर और पेसे से तोड़ा वैक्सीन लाओ विदेश से खरीद प्रतिस्पर्धी दाम मे रेलवे से भी रकम ऊगाह रहा मै दानी दान की कौड़ियो रा दामे विदेसां दी वैक्सीन कोर्ट समझ गऐ सच तो उधेड़ देने

''छवि बनाने के अलावा जिंदगी में और भी बहुत कुछ है'' : क्‍या अनुपम खेर ने की केंद्र सरकार की आलोचना?अनुपम ने कहा, मुझे लगता है कि ज्‍यादातर केसों में आलोचना जायज थी और सरकार के लिए यह महत्‍वपूर्ण है कि वह ऐसा काम करे जिसके लिए लोगों ने उसे चुना है. मुझे लगता है कि केवल संवेदनहीन व्‍यक्ति ही ऐसे हालातों से अप्रभावित होगा.. बहते हुए शव लेकिन दूसरी राजनीतिक पार्टी के लिए इसे फायदे के लिए इस्‍तेमाल करना भी ठीक नहीं है. जी नहीं.... कुत्ते की दुम कभी सीधी नहीं हुआ करती..!!! और राज्य सरकार सिर्फ वशुली और विज्ञान करनेकै लिये हे, हरेक काम अगर केंद्र सरकार करेगी तो राज्य मे सरकार क्नू,

agar iske zimmedaar logo ko ehsaas hota to ye nabat hi kyu aati ki lashon ko nadi me fenk kar uski behurmati kar rahe hain ganga bhi maili kar rahe hain सबकुछ गवा के होश में आए तो क्या हुआ....... और जो किसान आंदोलन में शहीद हुए उनका असर कैसे होगा चमचे भक्त पर चलो आज पता चला अनुपम खेर आदमी है शायद कुछ अक्ल ठिकाने आ रही है इसकी --!

बोले नहीं ,बोला । अनुपम खेर बोला। आप जैसे गुलामों और अमानवीय लोगों को कोई फर्क नहीं पड़ता, गजेन्द्र चौहान भी ऐसे ही अमानवीय वृत्ति के व्यक्ति हैं। Tum jese logo ko pe to bilkool b asaar ni hoga kynki tum log desh ki is haalat m talve chtne chatukarita krne ni choadnge यदि आपको होता कुछ असर तो सरकार से सवाल जरूर करते। 2013 का वो दिन याद है जब आप पेट्रोल के लिए सरकार पर तंज कसे थे! अभी आप शांत क्यु है! कुछ बोलना तो चाहिए ना आपको AnupamPKher

इस तस्वीर कुछ कहना चाह रही है..

शिवराज की मंत्री का बयान, 'यज्ञ में आहुति डालने से देश को नहीं छू सकेगी कोरोना की तीसरी लहर'मंत्री ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कह दिया है कि यज्ञ में आहुति देने से कोरोना की तीसरी लहर का भारत पर कोई असर नहीं पड़ेगा. ReporterRavish एक मुख्यमंत्री गंगा में डुबकी से कोरोना भगाने का दावा कर रहे थे, अब राज्य में कोरोना फैला तो मुह छिपा कर बैठे है । कोई गाय के मूत्र की सलाह दे रहा । ये हवन का सुझाव दे रही । आखिर जनता को क्यों वेबकूफ बना रहे । आखिर क्या हासिल होगा इन्हें ऐसी हरकत करके । बीमारी का इलाज दवाई है ReporterRavish हा इस जाहिल अनपढ़ का ही आहुति दे दो ReporterRavish इसमें अजीबोगरीब क्या है ❓️चापलूसी की हद हो गई।

बात तो इनकी सही है Is he sycophant or worshipper of power somewhere? Beware of such sycophant!! His statement is not so important becouse he always support to failure steps of BJP government like demonisation , GST and ofcourse TALI THALI !!! Anupam kher is also a dead person and countable as one of them. He dies everyday through flattery before he is dead.

आप थर्ड ग्रेड मानसिकता के लोग इस बारे में कभी परेशान नहीं होंगे। केवल अच्छे इंसान ही दर्द महसूस करेंगे न कि आपके टाइप के लोग लगता है खेर साहब का वो खुमारी अब उतर रहा है !!🤔🤔 Modi Shah Nadda Yogi bjpnpee nahi hota. मोदी जी पर 😂😂😂 AnupamPKher पर शायद ही होगा अम्बानी-अडानी तो लंदन निकल गए,😏😏 टॉमी को यहीं छोड़ गए.😛😛 अगर तेरे विचार मेरे विचार से मेल नहीं खाते है तो तु पक्का नाजायज औलाद हैं ! डेडिकेट 👉अन्धभक्त

क्या गंगा में मिली लाशों से कोरोना फैलेगा?: टॉप एक्सपर्ट्स बोले- पानी से वायरस शरीर में जाने का सबूत नहीं, दूसरी बीमारियां हो सकती हैंउत्तर प्रदेश और बिहार में बीते कुछ दिनों से गंगा और यमुना में बड़ी संख्या में लाशें नजर आई हैं। ये कोरोना मरीजों की भी हो सकती हैं। ऐसे में सवाल उठने लगा है कि क्या पानी से भी कोरोना फैल सकता है? इस पर 'दैनिक भास्कर' ने राजीव गांधी सुपरस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. बीएल शेरवाल और कन्नौज राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज के डायरेक्टर प्रो. मनोज शुक्ला से विशेष बातचीत की। हमने आपके मन में उठने वाले हर... | Top experts said - no evidence of coronavirus spreading from water, but other diseases can happen मेरा narendramodi ChouhanShivraj से निवेदन है कि किसानों के बारे में कुछ सोचे क्योंकि जैसे किराने की रोज जरूरत पड़ती है उसी तरह सब्जियों की भी रोज जरूरत पड़ती हैं,पर किराने की दुकानदारों के पास पास है और किसानों के पास अगर नहीं तो किसानों को उनकी पूरी फसल के पैसे दिए जाएं। बात गले नहीं उतरती। गंगा के जल से सब कोरोना नष्ट हो जायेगा

बहती लाशो का असर सरकार पर नही होगा। Very big 1000 of carores powerbank froud scam in india झूठ बोलते हैं अनुपम खेर! ऐसे मगरमच्छों के आँसूओं पर ना जाईए! ये सबसे भयंकर भीतरघाती हैं! सत्ता के लिये पाताल तक गिर सकते हैं! मोदी और आप में असर नहीं होगा... अपने मोदी जी को कोई असर नहीं होगा 😠 सब पर होगा सिवाय सरकार और भक्तों के क्योंकि अगर वो भगवान के बारे में बोलेंगे तो भगवान बुरा मान जाएंगे।जो भक्त चाहते नही हैं।

अभी इंसानियत का जज़्बा अनुपम खेर के अंदर मरा नहीं है। Very soon, I came to Akal, let's be good, I forgot the evening, I came home in the morning.

कोरोनाः मोदी पर राहुल गांधी का हमला जारी, कहा गुलाबी चश्मे उतारिए - BBC Hindiराहुल गांधी और उनकी पार्टी कोरोना संकट को लेकर प्रधानमंत्री मोदी और उनकी सरकार की आलोचना कर रहे हैं. Rahul Gandhi 18 se Kam vaalo ko kab lagegi iska wait Kar raha hai kyunki tab hi ye bhi lagva payenge .