अजित जोगी: अध्यापक, आईपीएस, आईएएस और सीएम से लेकर बाग़ी तक

अजित जोगी का 74 वर्ष की आयु में निधन

29-05-2020 14:07:00

अजित जोगी का 74 वर्ष की आयु में निधन

छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री रहे अजीत जोगी का आज रायपुर में निधन हो गया.

शेयर पैनल को बंद करेंइमेज कॉपीरइटImage captionअजित जोगी का 74 वर्ष की आयु में निधन हो गया हैछत्तीसगढ़ राज्य के पहले मुख्यमंत्री अजित जोगी का आज रायपुर के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया.इसी महीने की नौ तारीख़ को गंगा इमली नामक एक फल का बीज उनकी श्वांस नली में अटक गया था. इसके बाद कॉर्डियक अरेस्ट के कारण उन्हें रायपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

विकास दुबे मुठभेड़: देवेंद्र मिश्र ऐसा जज़्बा दिखाकर बने थे सिपाही से डीएसपी कोरोना अपडेट: दुनिया भर में संक्रमण मामलों में रिकॉर्ड बढ़त-WHO - BBC Hindi इमरान ख़ान का आरोप, भारत ने करवाया कराची स्टॉक एक्सचेंज पर हमला

प्राध्यापक, आईपीएस, आईएएस, सांसद और फिर मुख्यमंत्री तक का सफ़र तय करने वाले अजीत जोगी पिछले 16 सालों से व्हीलचेयर पर थे. एक सड़क दुर्घटना के बाद उनके कमर के नीचे के हिस्से ने काम करना बंद कर दिया था.लेकिन अजित जोगी अपने जीवन के अंतिम दिनों तक अपनी इच्छाशक्ति और जिजीविषा के बल पर राज्य के सर्वाधिक चर्चित नेता बने रहे.

उनके विरोधी भी कहते थे कि जोगी व्हीलचेयर के सहारे नहीं, 'विलपावर' यानी इच्छाशक्ति के सहारे हैं.21 अप्रैल 1946 को छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में जन्मे अजित जोगी ने भोपाल से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की और बाद में उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से क़ानून की डिग्री ली.

जोगी ने कुछ समय तक रायपुर के इंजीनियरिंग कॉलेज में अध्यापन भी किया. यहीं रहते हुये उन्होंने सिविल सर्विसेस की परीक्षा दी और भारतीय पुलिस सेवा के लिये चुने गये. डेढ़ साल तक पुलिस सेवा में रहने के बाद जोगी ने फिर से परीक्षा दी और वो भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिये चुन लिये गये.

इमेज कॉपीरइटAjit Jogi FBइन परीक्षाओं में कभी आरक्षण का लाभ नहीं लेने वाले अजित जोगी ख़ुद को आदिवासी मानते थे लेकिन पिछले कई सालों से उनकी जाति पर विवाद बना रहा. अभी भी उनकी जाति का मामला न्यायालय में लंबित है.जोगी अविभाजित मध्य प्रदेश में 14 सालों तक कई महत्वपूर्ण ज़िलों के कलेक्टर रहे. अपनी दबंग छवि के कारण वो मध्य प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह के काफ़ी नज़दीकी लोगों में शुमार थे. अर्जुन सिंह और राजीव गांधी की सलाह पर ही उन्होंने नौकरी छोड़ी और फिर उन्हें कांग्रेस पार्टी ने राज्यसभा का सदस्य बनाया.

जल्दी ही अजित जोगी राजीव गांधी की कोर टीम के सदस्य बन गये. दो बार राज्यसभा के लिये चुने जाने वाले अजित जोगी को कांग्रेस पार्टी ने राष्ट्रीय प्रवक्ता भी बनाया.लोकसभा चुनाव में हार के बाद बने मुख्यमंत्रीइमेज कॉपीरइटAjit Jogi FB1998 में उन्होंने रायगढ़ लोकसभा से पहली बार चुनाव लड़ा और वो संसद पहुंचे. हालांकि एक साल बाद 1999 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

तब मान लिया गया था कि पार्टी में अब जोगी को हाशिये पर ही रहना होगा. लेकिन वर्ष 2000 में मध्य प्रदेश से अलग जब छत्तीसगढ़ राज्य बनाया गया तो मुख्यमंत्री के तमाम नामों की अटकलों के बीच अप्रत्याशित रूप से अजित जोगी राज्य के पहले मुख्यमंत्री बनाये गये.जोगी ने किसी करिश्माई नेता की तरह काम करना शुरू किया. स्थानीय बोली में दिये जाने वाले उनके भाषणों ने पहली बार लोगों में छत्तीसगढ़िया अस्मिता को जगाने का काम किया. रामानुजगंज से लेकर कोंटा तक, राज्य के अलग-अलग हिस्सों में उनके हर दिन के दौरों का रिकॉर्ड अब तक बरक़रार है.

स्पेशल रिपोर्ट: मोदी का माइंड गेम... चीन का खेल खत्म! दिल्ली दंगा: आरोपपत्र में भाजपा नेता पर 25 वर्षीय मुस्लिम युवक की हत्या का आरोप कानपुर गोलीकांड के बाद जागी पुलिस, बनाई यूपी के 33 टॉप मोस्ट अपराधियों की लिस्ट

अजित जोगी कहते थे-"मैं सपनों का सौदागर हूं."इमेज कॉपीरइटAjit Jogi FBलेकिन कहा जाता है कि अफ़सर से नेता बने जोगी ने अपने अफ़सरों पर कहीं अधिक भरोसा किया और राज्य में अफ़सरशाही ने पार्टी के नेताओं को ही हाशिये पर खड़ा कर दिया. सरकार एक के बाद एक गंभीर आरोपों में उलझती गई.

अंततः केवल तीन साल के भीतर ही 'सपनों के सौदागर' से 'यथार्थ का सार्थवाह' बनने की उनकी कोशिश धरी रह गई और 2003 में जोगी के नेतृत्व में लड़े गये विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को हार का सामना करना पड़ा. राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार चुनी गई. जिसने अगले 15 सालों तक शासन किया.

2003 के चुनाव के दौरान ही उनके बेटे अमित जोगी पर राकांपा के नेता राम्वतार जग्गी की हत्या के आरोप लगे और उन्हें लंबे समय तक जेल में भी रहना पड़ा.सत्ता जाने और बेटे के हत्या के आरोप में फंसने के बाद 2003 में कथित रूप से भाजपा विधायकों की ख़रीद-फरोख़्त का आरोप उन पर लगा और कांग्रेस पार्टी ने उन्हें पार्टी से निलंबित भी कर दिया.

अगले साल यानी 2004 में अजित जोगी का न केवल निलंबन वापस हुआ, बल्कि पार्टी ने उन्हें महासमुंद से लोकसभा की टिकट भी दी.आपातकाल में सूचना एवं प्रसारण मंत्री रहने के अलावा कांग्रेस पार्टी के दिग्गजों में शुमार किये जाने वाले विद्याचरण शुक्ल इस सीट से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार थे. लेकिन अजित जोगी यह सीट जीतने में कामयाब रहे.

और पढो: BBC News Hindi »

Sat sat Naman उनका आत्मा को सद्गति प्राप्त हो। Salute RIP छत्तीसगढ़ की सबसे बुद्धिजीवी जनप्रिय नेता को मेरा नमन Next who? Maybe anyone from bjp Ooops Rip अच्छा नेता था 👍 पर बीच में पता नहीं क्या गया था । मैं पसंद करता था 👍 RIP. चलो जगह खाली करो भगवान श्री कृष्ण जी जोगी जी की दिवंगत आत्मा को शांति देना ॐ शाँति ॐ

RIP to chattisgarh first cm सत सत नमन् ऊॅ शान्ति RIP . Once upon a time Sonia s fav , just because he was a Christian .His daughter was in love with a muslim Congressman, died mysteriously ,was buried in Delhi . When Ajit became CM of Chattisgarh, he exhumed the body from Christian graveyard,and transferred it there ..

Sad news. May his soul rest in Peace दुखद ऊं शांति! OM Shanti (RIP) 🙏🙏🌼🌼 छत्तीसगढ़ की इतिहास की पन्नों पर आप सदा जीवित रहेंगे जोगी जी विनम्र श्रद्धांजलि 💐 Only this politician fought against FRC Lgta hai 2020 itihas me sabko peechhe chhod dega aur log jaise 2020 ka intezar kr rhe they जोगी का दुःखद निधन, ईश्वर मृत आत्मा को शांति दे!

R I p R.I.P..😢😢😢😢 Jai Hind..🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳 दुखद भगवान उसकी आत्मा को शांति दे RIP🙏🙏🙏

नौकरशाह से नेता बने छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजित जोगी का निधनछत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजित जोगी का निधन, अस्पताल में थे भर्ती AjitJogi Chhattisgarh INCIndia BJP4India INCIndia BJP4India Very sad shanti

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन, लंबे समय से थे बीमारछत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वह 20 दिन से रायपुर के अस्पताल में भर्ती थे. उनके निधन की जानकारी उनके बेटे अमित जोगी ने ट्वीट कर दी. RIP Rip Bye bye.

VIDEO: नहीं रहे अजीत जोगी, छत्तीसगढ़ के गठन में थी बड़ी भूमिकाछत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का शुक्रवार को निधन हो गया. अजीत जोगी को दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वह 20 दिन से रायपुर के अस्पताल में भर्ती थे. उनके निधन की जानकारी उनके बेटे अमित जोगी ने ट्वीट कर दी. उन्होंने लिखा कि 20 वर्षीय युवा छत्तीसगढ़ राज्य के सिर से आज उसके पिता का साया उठ गया. केवल मैंने ही नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ ने नेता नहीं,अपना पिता खोया है. देखें वीडियो. दुखद। आईएएस से मुख्यमन्त्री बनने वाले शख्स। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे,🌹🙏🌹

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी नहीं रहे, उन्हें 20 दिन में तीसरी बार दिल का दौरा पड़ा थाजोगी को पहली बार 9 मई को दिल का दौरा पड़ा था, इसके बाद से वे अस्पताल में भर्ती थेशुक्रवार को तीसरी बार हार्ट अटैक आने के बाद उन्हें बचाने के लिए डॉक्टर 45 मिनट कोशिशें करते रहे | Ajit Jogi Death News Update | Chhattisgarh Former Chief Minister Passes Away At 74 In Raipur Hospital News Today Updates amitjogi ajitjogi_cg jantacongressj आपको ये छत्तीसगढ़ के लोग कभी भी भुल नही पायेंगे।प्रदेश को International लेबल पर नई पहचान दिलाई है आपने।। आप लोगो के दिलो मे राज करते है ।।😭 amitjogi ajitjogi_cg jantacongressj Om Shanti 🙏 amitjogi ajitjogi_cg jantacongressj Sradhanjali,,🌹ऊँशान्ति🙏

Ajit Jogi Passed Away: अजीत जोगी के चलते टूटी सगाई, ढाई घंटे में बने कलेक्टर से नेता...जानें 3 रोचक किस्सेछत्तीसगढ़ न्यूज़: Ajit Jogi Passed Away: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी (Ajit Jogi) का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। करीब 15 दिन पहले कार्डियक अरेस्ट के बाद उन्हें रायपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था। रेकॉर्ड 14 साल जिलाधिकारी रहे अजीत जोगी गांधी परिवार के बेहद करीबी रहे। छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री श्री अजीत जोगी जी का निधन छत्तीसगढ़ प्रदेश के लिए एक बड़ी राजनीतिक क्षति है भगवान छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री श्री अजीत जोगी जी की आत्मा को शांति प्रदान करे। विनम्र श्रद्धांजलि। ॐ शांतिः 🙏🙏

पूर्व सीएम अजीत जोगी का निधन, बेटे अमित बोले- मैंने ही नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ ने अपना पिता खोया हैरायपुर न्यूज़: छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी (Ajit Jogi) दुनिया को अलविदा कह गए हैं। वो काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। यह जानकारी अजीत जोगी के बेटे अमित जोगी ने ट्वीट के ज़रिए दी है। Agar tera baap pure Chhatishgadh ka baap hota toh aaj bhi vo c.m. hota ...ex.c.m. nahi hota Chhattisgarh Ka Papa kaun hai

भारत-चीन तनाव के बीच अचानक लेह पहुँचे प्रधानमंत्री मोदी कोरोना अपडेट: फ्रांस में प्रधानमंत्री की कुर्सी गई, संकट बेक़ाबू होने की होगी जाँच - BBC Hindi अस्पताल का बिल ना चुकाने पर मरीज़ की हत्या, क्या है पूरा मामला? व्लादिमीर पुतिनः रूस पर सबसे लंबे समय तक राज करने की ओर बढ़ते क़दम चीनी तैयारी की ख़ुफ़िया जानकारी भारत को क्यों नहीं मिल पाई? चिदंबरम ने पूछा- क्या PM मोदी ने ट्रंप से बात में चीन का जिक्र किया था? विकास दुबे: अपराध में लिप्त लोग कैसे चढ़ते जाते हैं राजनीति की सीढ़ियां दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके गलवान घाटी मे शहीद सैनिकों के पराक्रम पर फिल्म बनाएंगे अजय देवगन कांग्रेस का फिर हमला, पूछा- मजबूत भारत के PM को चीन का नाम लेने से गुरेज क्यों? मिज़ोरम के बाद नगालैंड में कुत्ते के मांस पर लगा प्रतिबंध, क्या कहते है लोग?