Energy, Coal, Renewable Energy, Energy Policy, Jansatta Opinion Renewable Energy

Energy, Coal

अक्षय ऊर्जा: विकल्प और चुनौतियां

अक्षय ऊर्जा: विकल्प और चुनौतियां

19-08-2019 23:52:00

अक्षय ऊर्जा: विकल्प और चुनौतियां

भारत में अपार मात्रा में जैवीय पदार्थ, सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, बायोगैस व लघु पनबिजली उत्पादक स्रोत हैं लेकिन इनसे ऊर्जा उत्पादन करने वाले उपकरणों का निर्माण देश में नहीं के बराबर होता है। अभी तक ऐसे अधिकांश उपकरण आयात किए जाते हैं। विगत तीन वर्षों में सौर ऊर्जा के लिए ही करीब नब्बे फीसद उपकरण आयात किए गए। इससे बिजली उत्पादन की लागत काफी बढ़ जाती है, जिसका सीधा-सीधा असर देश की अर्थव्यवस्था पर भी पड़ता है।

ऊर्जा आज पूरी दुनिया में आधुनिक जीवनशैली का अभिन्न हिस्सा बन चुकी है। ऊर्जा के बिना आधुनिक सभ्यता की कल्पना ही नहीं की जा सकती, क्योंकि इसी से विकास के नए-नए रास्ते निकलते हैं। हमारा समस्त जीवन अब इसी ऊर्जा पर निर्भर है। पृथ्वी पर ऊर्जा के परंपरागत साधन बहुत ही सीमित रह गए हैं। ऐसे में यह खतरा मंडरा रहा है कि अगर ऊर्जा के पारंपरिक स्रोतों का इसी प्रकार दोहन किया जाता रहा तो इन परंपरागत स्रोतों के समाप्त होने पर गंभीर समस्या उत्पन्न हो जाएगी और ऊर्जा के बिना आधुनिक सभ्यता के अस्तित्व पर ही बहुत बड़ा प्रश्नचिह्न लग जाएगा। आधुनिकता की ओर तेजी से बढ़ती दुनिया के लिए ऊर्जा के इन स्रोतों और संसाधनों का उपयोग करना जरूरी भी है। ऐसे में सवाल उठता है कि अगर आने वाले समय में परंपरागत ऊर्जा के स्रोत समाप्त हो गए तो हम क्या करेंगे? आने वाले वक्त की इसी समस्या के मद्देनजर अब ऊर्जा के ऐसे गैर परंपरागत स्रोतों की खोज करना बेहद जरूरी हो गया है जिनकाक्षय भी न हो और वे प्रदूषणकारक भी न हों।

‘कोरोना आपदा को बदला लेने का अवसर मान रही मोदी सरकार’: छात्र नेताओं ने लगाया आरोप दरभंगा में ज्योति का घर बना पीपली लाइव, नींद अधूरी-खाना पीना छूटा नेपाल क्या हमेशा भारत को चीन का डर दिखाता है?

ऊर्जा का पर्यावरण से सीधा संबंध है। कोयला, गैस, पेट्रोलियम इत्यादि ऊर्जा के परंपरागत साधन सीमित मात्रा में होने के साथ-साथ पर्यावरण के लिए भी बहुत हानिकारक साबित हो रहे हैं। अक्षय ऊर्जा, जिसे ‘नवीकरणीय ऊर्जा’ के नाम से भी जाना जाता है, वास्तव में ऐसी ऊर्जा है जिसके स्रोत सूर्य, जल, पवन, ज्वार-भाटा, भू-ताप आदि हैं और ये स्रोत प्रदूषणकारक नहीं होते। इनका कभी क्षय भी नहीं होता। प्रकृति प्रदत्त सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, जल-विद्युत ऊर्जा, ज्वार-भाटे से प्राप्त ऊर्जा, बायोमास, जैव र्इंधन इत्यादि अक्षय ऊर्जा के महत्त्वपूर्ण उदाहरण हैं।

हमारे पास अक्षय ऊर्जा के इन विविध स्रोतों का अपार भंडार है और किसी भी राष्ट्र को विकसित बनाने के लिए इन प्रदूषणरहित स्रोतों का समुचित उपयोग किए जाने की आवश्यकता भी है। यही कारण है कि भारत सरकार ने वर्ष 2004 में अक्षय ऊर्जा के विकास को लेकर जागरूकता अभियान चलाने के उद्देश्य से अक्षय ऊर्जा दिवस की शुरुआत की थी। आज देश में ऊर्जा की मांग और आपूर्ति के बीच अंतर तेजी से बढ़ रहा है। राष्ट्रीय पावर पोर्टल के अनुसार वर्तमान में देश में साढ़े तीन लाख मेगावाट से भी अधिक बिजली का उत्पादन किया जा रहा है लेकिन यह भी हमारी कुल मांग से करीब ढाई फीसद कम है। अक्षय ऊर्जा स्रोतों के उपयोग को बढ़ावा देने से हमारी ऊर्जा की मांग एवं आपूर्ति के बीच का अंतर भी खत्म हो जाएगा और इससे प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से सामाजिक जीवन स्तर में भी सुधार होगा।

अक्षय ऊर्जा उत्पादन की देशभर में कई छोटी-छोटी इकाइयां हैं जिन्हें एक ग्रिड में लाना बेहद चुनौतीभरा काम है। इससे बिजली की गुणवत्ता प्रभावित होती है। इसलिए बेहद जरूरी है कि देश के भीतर ही इन उपकरणों के निर्माण के लिए अपेक्षित कदम उठाए जाएं। भारत सरकार के सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय द्वारा प्रकाशित बीसवीं ऊर्जा सांख्यिकी रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2011-12 से 2016-17 के बीच प्रति व्यक्ति ऊर्जा की खपत 3.54 फीसद बढ़ गई है। आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो वर्ष 2005-06 से 2018-19 के दौरान प्रति व्यक्ति बिजली उपभोग में करीब दो गुना वृद्धि दर्ज की गई है। केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण की अप्रैल 2019 की रिपोर्ट के अनुसार देश में प्रति व्यक्ति प्रति वर्ष 1181 किलोवाट बिजली का उपभोग किया जाता है। इसका एक अहम कारण देश में तेजी से बढ़ती जनसंख्या भी है। विशेषकर बिजली और ईंधन के रूप में उपभोग की जा रही ऊर्जा की मांग घरेलू व कृषि क्षेत्र के अलावा औद्योगिक क्षेत्रों में भी लगातार बढ़ रही है।

औद्योगिक क्षेत्रों में ही बिजली और पेट्रोलियम जैसे ऊर्जा के महत्त्वपूर्ण स्रोतों का करीब 58 फीसद उपभोग किया जाता है। इसके अलावा कृषि क्षेत्र और घरेलू कार्यों में भी ऊर्जा की मांग और खपत पिछले कुछ वर्षों में काफी बढ़ी है। हम जिस बिजली से अपने घरों, दुकानों या दफ्तरों को रोशन करते हैं, जिस बिजली या पेट्रोलियम इत्यादि ऊर्जा के अन्य स्रोतों का इस्तेमाल कर खेती-बाड़ी या उद्योग-धंधों के जरिए देश को विकास के पथ पर अग्रसर किया जाता है, क्या हमने कभी सोचा है कि वह बिजली या ऊर्जा के अन्य स्रोत हमें कितनी बड़ी कीमत पर हासिल होते हैं? यह कीमत न सिर्फ आर्थिक बल्कि पर्यावरणीय दृष्टि से भी धरती पर विद्यमान हर प्राणी पर बहुत भारी पड़ती है।

भारत में थर्मल पावर स्टेशनों में बिजली पैदा करने के लिए कोयला, सौर ताप, नाभिकीय ताप, कचरे और बायो र्इंधन का उपयोग किया जाता है। लेकिन अधिकांश बिजली कोयले के इस्तेमाल से ही पैदा होती है। ताप बिजली घरों में भाप पैदा करने के लिए कोयला जलाने से पर्यावरण को भारी नुकसान पहुंचता है क्योंकि इस प्रक्रिया में निकलने वाली हानिकारक गैसें हवा में मिल कर पर्यावरण को बुरी तरह प्रदूषित करती हैं, साथ ही कोयला या अपशिष्ट जलाने के बाद बचने वाले अवशेषों के निबटारे की भी बड़ी चुनौती बनी रहती है। सार्वजनिक क्षेत्र के सवा सौ से भी अधिक थर्मल पावर स्टेशनों में प्रतिदिन करीब 18.17 लाख टन कोयले की खपत होती है।

अमेरिका के वर्ल्ड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट के एक शोध के अनुसार वर्ष 2005 से 2013 के बीच भारत में 25.54 अरब टन कार्बन डाइआॅक्साइड का उत्सर्जन हुआ और उस दौरान उसमें प्रतिवर्ष साढ़े पांच फीसद की वृद्धि भी होती रही। एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार भारत में 2005 से 2013 के बीच कुल कार्बन उत्सर्जन में 68 फीसद की प्रमुख वजह ऊर्जा क्षेत्र ही रहा। यहां उल्लेखनीय तथ्य यह है कि ऊर्जा क्षेत्र में सतहत्तर फीसद कार्बन उत्सर्जन बिजली उत्पादन से ही होता है। इन्हीं पर्यावरणीय खतरों को देखते हुए बिजली पैदा करने के लिए दुनियाभर में अब सौर ऊर्जा तथा पवन ऊर्जा जैसे अक्षय ऊर्जा के अन्य स्रोतों को विशेष महत्त्व दिया जाने लगा है।

कोरोना अपडेटः केंद्र और राज्य द्वारा उठाए गए क़दमों में ख़ामियां: प्रवासी मज़दूरों पर सुप्रीम कोर्ट - BBC Hindi कोविड-19: तीन ख़तरनाक चरमपंथी संगठनों पर कितना असर? कोरोना अपडेटः राहुल गांधी ने कहा, 'लॉकडाउन फेल', जावड़ेकर का पलटवार - BBC Hindi

आईसलैंड आज दुनिया का एकमात्र ऐसा देश बन चुका है जहां अक्षय ऊर्जा से ही सौ फीसद बिजली पैदा की जा रही है। इसके अलावा स्वीडन, जर्मनी, ब्रिटेन, कोस्टारिका, निकरागुआ, उरुग्वे इत्यादि देश भी आगामी दो वर्षों के भीतर अक्षय ऊर्जा से ही सौ फीसद बिजली उत्पादन के लक्ष्य के साथ आगे बढ़ रहे हैं। यूरोपीय संघ और अमेरिका भी कोयले से बिजली बनाने वाले अधिकांश बिजली संयंत्रों को बंद करने का फैसला कर चुके हैं। ब्रिटेन में कोयले से चलने वाले जो गिने-चुने बिजलीघर बचे हैं और उन्हें भी 2025 तक बंद कर दिए जाने की उम्मीद है।

भारत दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है जहां अक्षय ऊर्जा के विकास के लिए अलग मंत्रालय गठित है और ‘राष्ट्रीय पवन-सौर स्वच्छता नीति-2018’ के अनुसार पवन-सौर ऊर्जा उत्पादन के वर्तमान लक्ष्य अस्सी गीगावाट को वर्ष 2022 तक दोगुने से भी ज्यादा यानी दो सौ पच्चीस गीगावाट तक पहुंचाने का लक्ष्य है। आज समय है आर्थिक बदहाली औैर भारी पर्यावरणीय विनाश की कीमत पर ताप, जल व परमाणु ऊर्जा जैसे पारंपरिक ऊर्जा स्रोतों के बजाय अपेक्षया बेहद सस्ते और कार्बन रहित पर्यावरण हितैषी ऊर्जा स्रोतों के व्यापक स्तर पर विकास के लिए तेजी से काम हो लेकिन साथ ही हमें ऊर्जा की बचत की आदतें भी अपनानी होंगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App और पढो: Jansatta »

हिमाचल में भारी बारिश से तबाही: शिमला में भूस्खलन में पांच दबे, मनाली में एनएच बहाहिमाचल प्रदेश में भारी बारिश से तबाही मच गई है। जानमाल का भारी नुकसान होने की खबर है। अब तक कई लोगों की मौत हो चुकी है।

हिरासत में उमर जिम में बिजी तो महबूबा किताब मेंदिल्ली से प्रकाशित होने वाले अहम अख़बारों की ख़ास सुर्खियां एक साथ पढ़िए. कुछ सकारात्मक हुए Acha he kuch to hua....... अभी से बुद्धिजीवी बन गए

काबुल: शादी समारोह में जोरदार धमाके में 40 मरे, 100 घायल, लोगों में दहशतअफगानिस्तान की राजधानी में शनिवार देररात एक शादी समारोह में हुए बम धमाके में करीब 40 लोगों की मौत हो गई, जबकि करीब 100 लोग कैसे लगी आग

AIIMS में आग मामले में हौज खास पुलिस स्‍टेशन में FIR दर्जपुलिस का कहना है कि दूसरों के जीवन को हानि पहुचाने वाला कार्य और आग (Fire ) या विस्फोटक से किसी संस्थान को नुकसान पहुंचाने वाली धाराओं में दर्ज केस के तहत जांच की जा रही है. वहीं फायर विभाग (Fire Brigade) की फोरेंसिक टीम आज एम्स में लगी आग की जगह का मुआयना कर अपनी रिपोर्ट दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को सौंपेगी. | delhi News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी अज्ञात लोगो के खिलाफ हुई होगी FIR दर्ज !!!

BREAKING: अगले तीन घंटों में यूपी में इन जिलों में होगी भारी बारिशअगले 3 घंटों में उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इन जिलों में भारी बारिश ((Heavy-Rain)) की चेतावनी जारी की गई है. मौसम विभाग ने रामपुर, बरेली, पीलीभीत, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, अयोध्या, बस्ती, अंबेडकरनगर, गोंडा, गोरखपुर, वाराणसी और सोनभद्र जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. | uttar-pradesh News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

MP: सतना में मिला नाबालिग का शव, आपसी रंजिश में की हत्याReporterRavish Kabir Paramatma Ji has explained that this human body is a creature! This human birth is very difficult to get from eras to ages. Know the book जीने_की_राह how to get devotion and god TeachingsOf_SaintRampalJi ReporterRavish टाटा प्रबंधन का असली चेहरा देखना चाहते हैं । तो बेलपाहार आइए ।और एक निष्पक्ष पत्रकारिता की जरूरत है । ReporterRavish Considering humanitarian grounds the code of conduct of COPs towards prisoners should be monitored by relevant Agencies in India. Sometimes polices are under political pressure. In some provinces of India Polices are targeted because of their honesty. Find out the actual truth.

योगी आदित्यनाथ का वो बयान जिस पर मच रहा है सियासी घमासान कोरोना अपटडेटः भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या डेढ़ लाख के क़रीब, अकेले महाराष्ट्र में 52 हज़ार से ज़्यादा मामले - BBC Hindi नेपाल ने कहा, भारत के सेना प्रमुख ने हमारे इतिहास का अपमान किया OIC में पाकिस्तान को सऊदी और UAE से भी झटका, भारत को मिला समर्थन योगी आदित्यनाथ क्या प्रवासी मज़दूरों पर बयान देकर घिर गए हैं? कोरोना वायरस: दुनिया के 10 सबसे अधिक संक्रमित देशों में भारत शामिल - BBC Hindi बलबीर सिंह सीनियर का 95 की उम्र में निधन, भारत को दिलाए थे 3 ओलंपिक स्वर्ण कोरोना अपटडेटः राहुल गांधी ने कहा, हिंदुस्तान का लॉकडाउन फेल रहा है - BBC Hindi पाकिस्तान की मिसाल देने वाली गोरखपुर की महिला टीचर निलंबित राहुल गांधी का वार- पीएम ने पहले फ्रंटफुट पर खेला, लेकिन अब बैकफुट पर हैं 'पिंजरा तोड़' की लड़कियांः गिरफ़्तारी, ज़मानत और फिर पुलिस कस्टडी