ठौर न ठिकाना

Redirecting to full article in 0 second(s)...

जलवायु से जुड़ी आपदाओं जैसे बाढ़, सूखा और तूफान के कारण 2020 में 38.6 लाख भारतीय अपने ही देश में शरणार्थी बन गए थे।