Kargil Vijay Diwas: साथियों के घायल होने पर भी हिम्मत नहीं हारी, दुश्मनों से लोहा लेते रहे सूबेदार मेजर राजेंद्र सिंह

Redirecting to full article in 0 second(s)...

राजेंद्र सिंह ने बताया कि आपरेशन विजय 1999 के समय बटालियन नार्दन सियाचिन ग्लेशियर पर तैनाती थी। वहां से दूसरी यूनिट के साथ कारगिल की तरफ से नीचे आ रहे थे। इसी दौरान सूचना मिली कि बेस कैंप के पास फिर से घुसपैठ हो रही है।