कोरोना संकट में बने मिसाल, मां के निधन के बाद भी अस्पताल में रहे तैनात

Redirecting to full article in 0 second(s)...
राममूर्ति पर अस्पताल की पूरी टीम की जिम्मेदारी है. डॉक्टर दो दिनों में दो बार आते हैं. लेकिन बाकी समय में मेडिकल स्टाफ ही कोरोना मरीजों की देखभाल करते हैं. यानी कि 24 घंटे मरीजों के साथ रहकर उनकी देखभाल करते हैं.